डब्ल्यूएचओ

पूरी दुनिया जहां कोरोनावायरस के कहर से कराह रहा है वहीं धीरे-धीरे भारत में भी इसके मरीजों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है। हालांकि केंद्र और सभी राज्य सरकारों की तरफ से इस वायरस के प्रसार को रोकने के लिए लगातार कदम उठाए जा रहे हैं।

कोरोना वायरस को महामारी घोषित करने के बाद विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन ने जो ताजा आंकड़े पेश किए हैं उसके मुताबिक यह दुनिया के 157 देशों में फैल चुका है।

कोरोनावायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए भारतीय प्रबंधन संस्थान (आईआईएम) लखनऊ का दीक्षांत समारोह रद्द कर दिया गया है। आईआईएम लखनऊ का दीक्षांत समारोह 21 मार्च को आयोजित किया जाना था

वक्तव्य के अनुसार चीन और अन्य देशों के अनुभव ने यह साबित कर दिया है कि कुछ सार्वभौमिक रूप से लागू उपायों से वायरस के प्रसार को धीमा किया जा सकता है जिससे महामारी का प्रभाव कम हो सकता है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि चीन में कोरोना वायरस के नए मामलों में कमी आने के बावजूद इसके खात्मे के बारे में अभी भविष्यवाणी करना बहुत जल्दबाजी होगी।

चीन में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 1,000 से पार हो गई है, जबकि कन्फर्म मामलों की संख्या भी बढ़कर 42,000 से पार हो गई है। चीनी प्रशासन ने मंगलवार को यह जानकारी दी।

चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने पेइचिंग में विश्व स्वास्थ्य संगठन के महासचिव ट्रेडोस अधानोम घेब्रेयसुस से भेंट की। ट्रेडोस अधानोम घेब्रेयसुस ने कहा कि वुहान शहर में नए कोरोनावायरस निमोनिया के प्रकोप के बाद चीन सरकार ने बहुत कम समय में रोगजनकों का पता लगाया

हालात की भयावहता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि डब्ल्यूएचओ ने 2018 ग्लोबल डाटाबेस रिपोर्ट में कहा था कि दुनिया के 20 सबसे प्रदूषित शहरों की सूची में 14 भारत के हैं। भारत में हर साल 20 लाख से ज्यादा लोग प्रदूषित हवा की वजह से काल के गाल में समा जाते हैं।

डब्ल्यूएचओ ने यह भी कहा कि वर्तमान दौर की लगभग आधी नेत्र संबंधी समस्याओं को रोका जा सकता था और उन्होंने देशों से स्वास्थ्य योजनाओं में नेत्र संबंधी स्वास्थ्य को भी शामिल करने का आग्रह किया।

मलेरिया का प्रकोप फैलाने वाला एनोफेलीज मच्छर रात में सक्रिय होता है, इसलिए मच्छरदानी लगाकर सोने की सलाह दी जाती है। कीटनाशक से उपचारित मच्छरदानी बेहतर सुरक्षा प्रदान करती है।