डॉलर

अमेरिकी केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व द्वारा इस साल ब्याज दर में कटौती का संकेत दिए जाने के बाद से डॉलर में कमजोरी आई थी। डॉलर इंडेक्स पिछले सत्र के मुकाबले 0.17 फीसदी की गिरावट के साथ 95.808 बना हुआ था। 

चुनाव के परिणाम आने के बाद शुक्रवार को रुपये में रिकवरी आई। डॉलर के मुकाबले रुपया पिछले सत्र से 26 पैसे की रिकवरी के साथ 69.75 रुपये प्रति डॉलर पर खुला।

कमोडिटी बाजार विश्लेषक बताते हैं कि लोकसभा चुनाव के सातवें व अंतिम चरण का मतदान रविवार को संपन्न होने के बाद चुनाव के नतीजों को लेकर जारी रायशुमारी से कारोबारी रुझान मजबूत हुआ है इसलिए देसी करेंसी रुपये में मजबूती आई है।

इससे पहले डॉलर के मुकाबले रुपया पिछले सत्र से 23 पैसा फिसलकर 70.26 रुपये प्रति डॉलर पर खुला। घरेलू शेयर बाजार में पिछले सत्र में रिकवरी आने के बाद शुक्रवार को भी मजबूती के साथ कारोबार की शुरूआत हुई।

डॉलर इंडेक्स पिछले सत्र के मुकाबले 0.02 फीसदी की कमजोरी के साथ 97.36 पर बना हुआ था। वहीं, डॉलर के मुकाबले यूरो 0.08 फीसदी की मजबूती के साथ 1.1208 डॉलर प्रति यूरो पर बना हुआ था। 

देश के शेयर बाजार बुधवार को मजबूती के साथ खुले। प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स सुबह 220.52 अंकों की मजबूती के साथ 37,539.05 पर और निफ्टी 49.65 अंकों की बढ़त के साथ 11,271.70 पर खुला।

चीन के हाजिर विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में युआन को प्रत्येक कारोबारी दिन केंद्रीय समता मूल्य से अधिकतम दो फीसदी कमजोर होने या मजबूत होने दिया जा सकता है।

अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम में फिर तेजी का रुख और दुनिया की प्रमुख मुद्राओं के मुकाबले डॉलर में बीते सत्र में रही मजबूती से रुपये पर दबाव देखा जा रहा है।

डॉलर के मुकाबले रुपये में शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में हल्की कमजोरी रही। पिछले सत्र के मुकाबले करीब छह पैसे की कमजोरी के साथ देसी मुद्रा का भाव 69.41 रुपये प्रति डॉलर बना हुआ था जबकि इससे पहले रुपया 69.39 पर खुला था।

अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम में आई नरमी से देसी मुद्रा रुपये में मंगलवार को भी मजबूती बनी रही। शुरुआती कारोबार में डॉलर के मुकाबले रुपया पिछले सप्ताह के आखिरी सत्र के मुकाबले 23 पैसे की मजबूती के साथ 69.78 पर बना हुआ था। इससे पहले रुपया पिछले सत्र के मुकाबले 17 पैसे की मजबूती के साथ 79.84 पर खुला।