डोनाल्ड ट्रंप

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने फ्लोरिडा ऑर्लेडो में एक जनसभा से 2020 राष्ट्रपति चुनाव में अपने पुनर्निर्वाचन के लिए प्रचार अभियान की औपचारिक शुरुआत कर दी है।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, मंगलवार को फोन कॉल के दौरान, ट्रंप ने कहा कि वह इस महीने के आखिर में जापानी शहर ओसाका में आगामी जी-20 शिखर सम्मेलन के दौरान शी से मिलने और द्विपक्षीय संबंधों और आम चिंता के मुद्दों पर गहन चर्चा करने के लिए उत्सुक हैं।

हार्ले डेविडसन की मोटरसाइकिल पर भारत में हाई इंपोर्ट टैक्स लगाने की आलोचना करते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने इसे अस्वीकार्य बताया। ट्रंप ने कहा कि अमेरिका वो बैंक है, जिसे हर कोई लूटना चाहता है। साथ ही ये भी कहा कि उनके अच्छे दोस्त प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस पर शुल्क को 100% से घटाकर 50% कर दिया है।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उनके चीनी समकक्ष शी जिनपिंग इस महीने के अंत में जापान में होने वाले जी-20 शिखर सम्मेलन में मुलाकात करेंगे। यह जानकारी अमेरिकी राजकोष मंत्री स्टीवन मनुचिन ने शनिवार को दी। 

घर के बाहर हुए समारोह में दोनों देशों के राष्ट्रीय गान होने पर ट्रंप और उनकी पत्नी एक मंच पर खड़े हो गए, इसके बाद उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। ट्रंप दंपत्ति ने इसके बाद महल के अंदर शाही दंपत्ति से औपचारिक मुलाकात की।

क्रैसेनस्टीन ने आगे कहा, "हमारे कई खातों ने ट्विटर के किसी भी नियम को नहीं तोड़ा, लेकिन यह उनका अधिकार है कि वह जिसे चाहें उसे प्रतिबंधित कर सकते हैं। बस चीज जो उन्हें नहीं करनी चाहिए वह यह है कि बार-बार हमारे ऊपर यह आरोप न लगाए कि हमने अकाउंट की खरीद-फरोख्त की।"

व्हाइट हाउस ने कहा कि ट्रंप ने लोकसभा चुनावों में ऐतिहासिक जीत हासिल करने के लिए मोदी को फोन करके बधाई दी। एक बयान में व्हाइट हाउस ने कहा, ‘(दोनों) नेता ओसाका में जी-20 शिखर सम्मेलन में एक-दूसरे से मुलाकात को लेकर उत्सुक हैं।

ईरानी संसद के विदेशी मामलों के निदेशक हुसैन आमिर-अब्दुलाहियान ने सोमवार को सीएनएन से एक साक्षात्कार में कहा, कि ट्रंप 'सिरफिरे' हैं और उनका प्रशासन 'भ्रमित' है।

व्हाइट हाउस की प्रैस सचिव सारा सैंडर्स ने एक बयान में कहा, "यह आदेश संघीय सरकार को अमेरिकी कंपनियों को राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए अस्वीकार्य जोखिम पैदा करने वाले विदेशी प्रौद्योगिकी आपूर्तिकर्ताओं से व्यापारिक लेन-देन करने से रोकने की शक्ति देता है।"

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने पोम्पियो से कहा, "हमने अपनी ओर से बार-बार कहा है कि हम भी संबंध को पूर्ण रूप से बहाल करना चाहेंगे। मुझे उम्मीद है कि अब इसके लिए आवश्यक परिस्थितियां बन रही हैं।"