दिग्विजय सिंह

इंदिरा गांधी ने प्रधानमंत्री रहते हुए वीर सावरकर की लिखित में प्रशंसा की थी। अब इंदिरा गांधी के इस पत्र के सामने आने के बाद कांग्रेस इस मामले पर भी बैकफुट पर आती नजर आ रही है।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने अपनी राजनीति को लेकर एक बड़ा बयान दिया है। दिग्विजय सिंह ने कहा है कि अब वो वक्त आ चुका है जब उन्हें रिटायरमेंट ले लेनी चाहिए। मध्य प्रदेश के अलीराजपुर में एक जनसभा को संबोधित करते हुए दिग्विजय सिंह ने ये बयान दिया।

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह द्वारा भगवाधारियों के खिलाफ दिए गए बयान का विरोध शुरू हो गया हैं। उन्हें हिंदू विरोधी करार देते हुए राजधानी के कई मंदिरों के बाहर पोस्टर लगे हैं, जिसमें दिग्विजय के लिए मंदिरों के दरवाजे बंद किए जाने की मांग की गई है।

कांग्रेस के दिग्गज नेता और आए दिन अपने बयानों से सुर्खियों में रहने वाले दिग्विजय सिंह ने एक बार फिर से विवादत बयान दिया है। कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य ने कहा कि भगवा पहने लोग चूरन बेच रहे हैं और बलात्कार कर रहे हैं। मंदिरों में बलात्कार हो रहे हैं।

सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने पीओके को लेकर गुरुवार को बड़ा बयान दिया। सेना प्रमुख ने कहा कि पीओके पर सरकार को फैसला करना है और सेना पूरी तरह से तैयार है।

दिग्विजय सिंह और ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थक मध्यप्रदेश के वन मंत्री के बीच उठे विवाद को अनुशासन समिति के हवाले कर दिया है। मगर यह समिति भी पसोपेश में है।

मध्यप्रदेश में कांग्रेस नेताओं के बीच चल रहा विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। कैबिनेट मंत्री उमंग सिंघार से विवाद के बाद अब दिग्विजय सिंह ने मुख्यमंत्री कमलनाथ को एक बार फिर कांग्रेस का वादा याद दिलाया। उन्होंने शिक्षक दिवस के बहाने कमलनाथ से चुनावी घोषणा पत्र के वादों को पूरा करने की नसीहत दी है।

दिग्विजय सिंह के बारे में खबर है कि वह मध्यप्रदेश कांग्रेस में अपने गुट के कुछ विधायकों और मंत्रियों को लेकर खींचतान में जुटे हुए हैं। दिग्विजय सिंह की इस खींचतान से कमलनाथ और सिंधिया दोनों ही गुटों में असंतोष है।

दिग्विजय सिंह में हांगकांग का उदाहरण देते हुए कहा कि जब वहां की लड़ाई युवा लड़ सकते हैं तो मध्यप्रदेश में युवा कमान क्यों नही संभाल सकते? उन्होंने अंतिम फैसला सोनिया गांधी के हाथ में होने की बात की।

दिग्विजय सिंह ने ट्वीट किया कि आईएसआई पाकिस्तान के लिए खुफियागीरी करते हुए भाजपा के नेताओं को एनएसए में गिरफ्तार कर सख्त सजा मिलनी चाहिए।