दिग्विजय सिंह

भोपाल से बीजेपी उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने कांग्रेस पर करारा हमला बोला है। कहा कि कांग्रेस ने उन्हें षड्यंत्र के साथ फंसाया है, उन पर जो भी आरोप लगे वह उनकी वजह से ही लगे हैं। साध्वी प्रज्ञा ने स्वीकार किया कि वह अभी ज़मानत पर हैं और उन्हें एनआईए ने क्लीन चिट दी है।

भाजपा ने भोपाल संसदीय सीट से कांग्रेस उम्मीदवार दिग्विजय सिंह के खिलाफ साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को मैदान में उतारा है। साध्वी पर मालेगांव बम विस्फोट मामले में शामिल होने का आरोप है।

मध्य प्रदेश के भोपाल संसदीय क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी की ओर से उम्मीदवार बनाई गई साध्वी प्रज्ञा ठाकुर 23 अप्रैल को नामांकन दाखिल करेंगी। ठाकुर ने गुरुवार को संवाददाताओं को बताया कि भाजपा द्वारा उम्मीदवार घोषित किए जाने के बाद उन्होंने प्रचार शुरू कर दिया है।

मध्यप्रदेश की भोपाल सीट से बीजेपी के टिकट पर साध्वी प्रज्ञा ठाकुर का चुनाव लड़ना तय है। बुधवार को साध्वी प्रज्ञा ने पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मौजूदगी में बीजेपी ज्वॉइन की। बीजेपी ज्वॉइन करने के बाद साध्वी प्रज्ञा ने कहा कि चुनाव लडूंगी और जीतूंगी।

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और भोपाल संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस उम्मीदवार दिग्विजय सिंह ने सोमवार को केंद्र सरकार पर जीवन बीमा निगम (एलआईसी) के एजेंटों के सामने रोजीरोटी का संकट खड़ा करने का आरोप लगाया

मध्य प्रदेश के भोपाल संसदीय क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) का उम्मीदवार बनाए जाने की चर्चाओं के बीच पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने ट्वीट किया है कि भोपाल की जनता दिग्विजय सिंह को हराने के लिए बेताब है।

मध्य प्रदेश के भोपाल संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस उम्मीदवार पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह 20 अप्रैल को नामांकन भरेंगे। सिंह ने नामांकन के दौरान कार्यकर्ताओं से शक्ति प्रदर्शन नहीं करने की अपील की है।

भोपाल लोकसभा सीट दिग्विजय सिंह के लिए साख का सवाल बन गई है। अपनी जीत को सुनिश्चित करने के लिए ‘दिग्गी राजा’ ने पूरी ताकत झोंक दी है। संसदीय क्षेत्र में चुनावी जमावट के लिए ही दिग्विजय सिंह का वॉर रूम भी बनकर तैयार है।

आधिकारिक जानकारी के अनुसार, पूर्व मुख्यमंत्री सिंह 28 मार्च को सीहोर के चिंतामन गणेश मंदिर दर्शन करने गए थे। बाहर निकलने पर उन्होंने भिखारियों को रुपये बांटे थे।

लोकसभा चुनाव से पहले मध्यप्रदेश में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) को लेकर राजनीति तेज हो गई है। राज्य की सत्ता पर मौजूद कांग्रेस सरकार ने भोपाल स्थित आरएसएस के मुख्यालय से सुरक्षा हटाने का फैसला किया है। जिससे कि उनकी ही पार्टी के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह नाराज हो गए हैं।