दिल्ली पुलिस

पुलिस ने मंगलवार सुबह प्रदर्शन स्थल को पूरी तरह से खाली करवा लिया है। इसके अलावा वहां प्रदर्शन के दौरान लगाए गए टेंट को भी हटा दिया गया है। साथ ही नोएडा-कालिंदी कुंज सड़क को भी खाली करा लिया गया है।

दिल्ली के शाहीनबाग में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ चल रहे प्रदर्शन को बंद करवाने को लेकर दो गुट शनिवार देर रात आपस में भिड़ गए। दोनों पक्षों में करीब आधे घंटे तक मारपीट और गालीगलौज हुई। एक गुट चाहता था कि प्रधानमंत्री के द्वारा 'जनता कर्फ्यू' के ऐलान का समर्थन किया जाए, जबकि दूसरा गुट इस आह्वान का पालन करने को तैयार नही था।

शाहीनबाग में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ जारी प्रदर्शन से जुड़े एक प्रदर्शनकारी में कोरोनावायरस की पुष्टि हुई है। जहांगीरपुरी निवासी इस शख्स की बहन इसी महीने सऊदी अरब से आई है, जो संक्रमित पाई गई है।

दिल्ली पुलिस ने प्रदर्शनकारियों से अपील की है कि पूरे देश में कोरोनावायरस फैल रहा है , इसलिए वो प्रदर्शन बंद कर दें। कम से कम जनता कर्फ्यू वाले दिन प्रदर्शन नहीं करें।

दिल्ली की एक अदालत ने शनिवार को राष्ट्रीय राजधानी के उत्तर-पूर्व क्षेत्र में हाल ही में हुई हिंसा के लिए गिरफ्तार किए गए दो लोगों को जमानत देते हुए दिल्ली पुलिस की खिंचाई की। मुख्य महानगर दंडाधिकारी पवन सिंह ने अनमोल और राहुल नागर को जमानत पर रिहा करते हुए कहा, "यह स्पष्ट है कि आरोपियों को जमानती अपराध में गिरफ्तार किया गया था।

दिल्ली पुलिस की विशेष इकाई चांदबाग इलाके के खतरनाक बदमाश मूसा और सलमान के बीच मोबाइल पर हो रही बातचीत को दंगों के दौरान गुपचुप तरीके से सुन रही थी। जैसे ही सलमान ने मूसा को बताया कि उसने भीड़ के बीच में घुसकर एक आदमी को चाकूओं से गोद डाला है, वैसे ही दिल्ली पुलिस की विशेष इकाई और स्पेशल ब्रांच (खुफिया विंग) सतर्क हो गई।

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने गुरुवार को पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) के दिल्ली प्रमुख परवेज अहमद और सचिव मोहम्मद इलियास को दंगों से इनके संबंध के चलते गिरफ्तार किया है। 

दिल्ली में एक बड़ी साजिश को अंजाम देने की तैयारी थी। इसी तैयारी के तहत सीएए के विरोधियों को भड़का कर उन्हें आतंकवाद की राह पर ले जाने का कुचक्र रचा गया था।

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने ओखला से आईएस को दो संदिग्ध लोगों को गिरफ्तार किया है। दोनों पति और पत्नी हैं बताया जा रहा कि दोनों संदिग्ध आईएसकेपी नाम के संगठन से जुड़े हुए हैं।

उत्तर पूर्वी दिल्ली में 24 फरवरी को हुए दंगों के मामले में दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच की एसआईटी ने एक हत्यारोपी को शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया।