दिल्ली पुलिस

अब दिल्ली पुलिस का दावा है कि मोहम्मद साद दिल्ली के जामिया नगर में क्वारंटीन में है। मरकज मामले की जांच कर रही अपराध शाखा की टीम के विश्ववसनीय सूत्रों के मुताबिक, यहां के जाकिर नगर में मौलाना की बहन का घर है।

इससे पहले दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने मौलाना साद को नोटिस भेजकर 26 सवाल पूछे थे। इनमें मरकज से जुड़ी कई जानकारी और लेन-देन का ब्यौरा भी शामिल था। इसके अलावा देश-विदेश से आने वाले नमातियों के बारे में भी जानकारी मांगी गई थी।

दिल्ली पुलिस एसआई शेख सैफुउद्दीन इस महिला के लिए मानो देवदूत बनकर सामने आए। महिला की हालत को देखते हुए उन्होंने थाने में जानकारी दी और फिर अपने दोस्त के प्राइवेट वाहन से महिला को अस्पताल पहुँचाया।

बीते 4 दिनों में पुलिस हेल्थ वर्कर और अधिकारियों ने दिल्ली के कई मस्जिदों में जाकर जांच की और पाया कि 800 से अधिक ऐसे विदेशी वहां पर अभी भी मौजूद हैं।

मौलाना साद ने क्राइम ब्रांच के नोटिस का जवाब दिया है। इस जवाब में मौलाना ने कहा कि वह इस वक्त सेल्फ क्वॉरेंटाइन में है।

दिल्ली पुलिस के डीसीपी ( स्पेशल सेल )संजीव कुमार यादव ने बुधवार को बताया कि आईएसआईएस के आतंकी लॉक डाउन के बीच दिल्ली पुलिस के जवानों को निशाना बना सकते हैं।

दरअसल तबलीगी जमात के आयोजक मौलाना मोहम्मद साद का एक ऑडियो वायरल हो रहा है। जिसमें वह कोरोना का जिक्र करते हुए कहते हैं कि मरने के लिए मस्जिद से अच्छी जगह नहीं हो सकती। इससे साफ है कि उन्हें पहले से पता था कि ऐसे जुटने से कोरोना का खतरा है। वायरल ऑडियो में मौलाना साद कई बातें कहते सुनाई दे रहे।

दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात के मौलाना के खिलाफ पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है। इसके साथ ही मौके पर डॉक्टरों की एक टीम डेरा डाले हुए हैं।

कोरोनावायरस के बीच कुछ लोग लॉक डाउन का पालन नहीं कर रहे हैं जिसकी वजह से केंद्र सरकार ने राज्यों को सख्ती से लॉकडाउन का पालन कराने का निर्देश दिया है। इसके साथ ही केंद्र ने सभी राज्यों को कहा है कि प्रवासी मजदूरों के लिए सभी तरह के जरूरी इंतजाम किए जाएं, जहां वे मौजूद हैं

एक जिम्मेदारी दिल्ली नॉर्थ वेस्ट की डेप्युटी कमिश्नर ऑफ पुलिस (डीसीपी) विजयंता आर्या और उनकी टीम ने ली है, ये लोग मजलिस पार्क में एक कैंप में रह रहे पाकिस्तान से आए शरणार्थियों को 21 दिन की कोरोनावायरस लॉकडाउन अवधि के दौरान आवश्यक सामान उपलब्ध करा रहे हैं।