नरेंद्र सिंह तोमर

Uttar Pradesh: सीएम योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने आगे कहा कि इस अभियान के तहत 75 हजार से अधिक सामुदायिक भवन (Community Hall) और शौचालय (Toilet) बनने हैं। इनके निर्माण में 7053.45 करोड़ रुपये की लागत आएगी। सामुदायिक शौचालय बहू-बेटियों की सुरक्षा और सफाई के लिहाज से मील का पत्थर साबित होंगे। सफाई का स्वास्थ्य के लिए क्या महत्व है,  इसका सबूत पूर्वांचल में इंसेफेलाइिटस से होने वाली मासूमों के मौत के घटते आंकड़े हैं।

Agriculture Bills: देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (President Ram Nath Kovind) ने शुक्रवार को शिरोमणि अकाली दल (SAD) की नेता हरसिमरत कौर बादल (Harsimrat Kaur Badal) का इस्तीफा स्वीकार कर लिया।

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण, ग्रामीण विकास तथा पंचायती राज मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बुधवार को कहा कि मध्यप्रदेश में खेसारी मिश्रित चने की खरीद की अनुमति से प्रदेश के 15 से अधिक जिलों के लाखों किसानों को फायदा होगा।

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने बुधवार को आवश्यक वस्तु अधिनियम में संशोधन, किसानों को पूरे देश में अपनी उपज बेचने की आजादी और बिचौलिए की भूमिका समाप्त करने को लेकर तीन फैसलों को मंजूरी दे दी।

इस बैठक में केंद्र सरकार की ओर से घोषित आर्थिक सुधारों की समीक्षा भी होगी। सूत्रों ने बताया कि कोरोना के संकट से जूझते हर वर्ग को मिले राहत पैकेज की समीक्षा और आर्थिक सुधारों का क्रियान्वयन इस मीटिंग का एजेंडा है।

रबी फसलों की सरकारी खरीद को लेकर एक सवाल का जवाब देते हुए तोमर ने कहा कि विषम परिस्थिति के कारण गेहूं की खरीद देर से शुरू हुई लेकिन खरीद इस समय जोरों पर है और देशभर में अब तक 117 लाख टन गेहूं की खरीद हो चुकी है।

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण, पंचायती राज और ग्रामीण विकास मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बुधवार को राज्यों के कृषि मंत्रियों से वीडियो कान्फ्रेंसिंग की।

कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल होने के बाद गुरुवार को पहली बार भोपाल पहुंचे ज्योतिरादित्य सिंधिया का जोरदार स्वागत किया गया।

प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना (पीएमएवाई-जी) के तहत अब तक 88 लाख से ज्यादा मकानों का निर्माण कार्य पूरा हो चुका है। यह जानकारी केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने मंगलवार को लोकसभा में एक सवाल के लिखित जवाब में दी।

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने केन्द्रीय मंत्री तोमर की मां शारदा देवी के निधन पर गहरा शोक व्यक्त करते हुए कहा कि शारदा देवी सरल स्वभाव, आध्यात्मिक विचारों और संस्कारों वाली महिला थीं।