नागरिकता संशोधन विधेयक

पत्रकारों ने जब प्रशांत किशोर से पार्टी नेता आऱ सी़ पी़ सिंह के बयानों के संबंध में पूछा तो उन्होंने कहा कि वे किसी पर भी व्यक्तिगत टिप्पणी नहीं करना चाहते। जिसे जो कहना है, कहे। उन्होंने सिंह को पार्टी का बड़ा नेता भी बताया।

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलमीन के मुखिया और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने नागिरकता संशोधन कानून को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है।

नागरिकता संशोधन विधेयक (सीएबी) को समर्थन देने के मामले में जद (यू) के उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर पार्टी की चेतावनी के बाद भी अपने रुख से पीछे नहीं हटे हैं। उन्होंने शुक्रवार को एकबार फिर नागरिकता संशोधन विधेयक को लेकर अपनी नाराजगी जाहिर की है। ऐसे में जद (यू) अब उनके खिलाफ कार्रवाई कर सकती है।

असम के डिब्रूगढ़ नगर निगम क्षेत्र में लागू अनिश्चितकालीन कर्फ्यू में शुक्रवार को पांच घंटे की ढील दी गई, जबकि सेना और सुरक्षा बलों ने गुवाहाटी शहर में फ्लैग मार्च जारी रखा है। इससे एक दिन पहले नागरिकता(संशोधन) विधेयक(सीएबी), 2019 को लेकर हिंसक विरोध-प्रदर्शनों में दो लोगों की मौत हो गई थी।

अनुच्छेद 370, राम मंदिर और नागरिकता संशोधन विधेयक (सीएबी) जैसे अहम पड़ाव पार कर चुकी मोदी सरकार का अगला कदम हो सकता है जनसंख्या नियंत्रण कानून और समान नागरिक संहिता (कॉमन सिविल कोड) यानी सीसीसी को लागू करना।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गुरुवार देर रात नागरिकता (संशोधन) विधेयक, 2019 को मंजूरी दे दी। इससे यह पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान में धार्मिक उत्पीड़न का सामना करने वाले गैर-मुस्लिम अल्पसंख्यक प्रवासियों को भारतीय नागरिकता प्रदान करने वाला एक अधिनियम बन गया है।

नागरिकता संशोधन विधेयक (सीएबी) के खिलाफ बुधवार को युवा कांग्रेस के प्रदर्शन के दौरान कार्यकर्ताओं पर पुलिस द्वारा किए गए लाठीचार्ज के खिलाफ 24 घंटे के बुलाए गए बंद का गुरुवार को कुछ खास असर नहीं दिखा।

जहां एक तरफ नागरिकता संशोधन विधेयक के राज्यसभा से पारित होने के बाद से हीं पूर्वोत्तर के राज्यों में जमकर बवाल मचा है वहीं मणिपुर में इस बिल के पास होने के बाद से ही लोग जश्न मना रहे हैं।

नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर दी गई है। यह याचिका इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग की ओर से फाइल की गई है। मुस्लिम लीग ने इस बिल को संविधान के अनुच्छेद 14 का उल्लंघन करार दिया है।

भाजपा संसदीय दल की बैठक को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नागरिकता संशोधन विधेयक का विरोध कर रहे विपक्षी पार्टियों पर आज जोरदार निशाना साधा। पीएम मोदी ने कहा कि कुछ दल पाकिस्तान की भाषा बोल रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस विधेयक से लाखों लोगों के जीवन में बड़ा बदलाव आयेगा।