नाथूराम गोडसे

Mahatma Gandhi Death Anniversary: राष्ट्रपिता महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) की आज 73वीं पुण्यतिथि है। इस मौके पर पूरा देश बापू को याद कर रहा है। 30 जनवरी को 1948 को नाथूराम गोडसे ने बापू को गोलियों से छलनी कर दिया।

Madhya Pradesh: मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह (Digvijaya Singh) के नाथूराम गोडसे को हिंदुस्तान का पहला आतंकी कहने पर भाजपा सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर (BJP MP Pragya Singh Thakur) ने पलटवार करते हुए करारा जवाब दिया है।

कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया ने आजकल अपना पूरा ध्यान छत्तीसगढ़ में केंद्रित कर दिया है। छत्तीसगढ़ कांग्रेस प्रभारी पीएल पुनिया इन दिनों अपने प्रभार वाले प्रदेश में 12 से 14 फरवरी के बीच आरक्षण को लेकर प्रेस कांफ्रेंस कर रहे हैं।

याद रखिए, कोई भी सभ्य समाज अपने भीतर नाथूराम गोडसे के पैदा होने से कलंकित ही महसूस करेगा, लेकिन साथ ही वह केवल महात्मा गांधी पैदा करने की गारंटी भी नहीं दे सकता।

मध्य प्रदेश के भोपाल से भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने अपने बयान को लेकर संसद में दोबारा माफी मांगी है। उन्होंने कहा कि मैंने 27 नवंबर को एसपीजी बिल पर हो रही चर्चा के दौरान नाथूराम गोडसे को देशभक्त नहीं कहा था, नाम भी नहीं लिया। फिर भी यदि किसी को ठेस पहुंचती हो तो मैं खेद प्रकट करते हुए क्षमा चाहती हूं।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे पर उनके द्वारा की गई टिप्पणी के लिए शुक्रवार को लोकसभा में माफी मांगी।

राजनाथ सिंह ने भी लोकसभा में प्रज्ञा के बयान की निंदा करते हुए कहा, "नाथूराम गोडसे को देशभक्त कहे जाने की बात तो दूर, हम उन्हें देशभक्त मानने की सोच की ही निंदा करते हैं। महात्मा गांधी हम लोगों के आदर्श हैं। वह पहले भी हमारे मार्गदर्शक थे और भविष्य में भी मार्गदर्शक रहेंगे। उनकी विचारधारा उस समय भी प्रासंगिक थी, आज भी है और आगे भी रहेगी।"

महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताना भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को महंगा पड़ गया। संसदीय कार्यमंत्री प्रह्लाद जोशी ने साध्वी प्रज्ञा को रक्षा मंत्रालय की संसदीय समिति से निकाल दिया है। इसके साथ ही सत्र के दौरान होने वाले भाजपा संसदीय दल की बैठकों में भी साध्वी प्रज्ञा को नहीं आने का फरमान सुनाया गया है।

भाजपा सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने बुधवार को लोकसभा में एसपीजी संशोधन विधेयक पर चर्चा के दौरान राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे का हवाला 'देशभक्त' के तौर पर दिया जिसको लेकर कांग्रेस सदस्यों ने कड़ा विरोध दर्ज कराया।

भोपाल से सांसद साध्वी प्रज्ञा ने गांधी संकल्प यात्रा से दूरी बनाए रखी थी। वह इस यात्रा में शामिल नहीं हुई थी। इसे लेकर काफी विवाद भी हुआ था। जब उनसे इस बाबत पूछा गया तो साध्वी ने गांधी को राष्ट्रपिता के बजाय राष्ट्र का पुत्र करार दिया। मगर साध्वी ने साथ में यह भी जोड़ दिया कि देश में और भी कई वीर हैं।