निर्मला सीतारमण

कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा पेश किए गए बजट को पर एक ट्वीट किया जिसमें उन्होंने लिखा कि, "वित्त मंत्री जी, मेरे सवालों से मत डरिए।

केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण के 2 घंटे 40 मिनट के लंबे बजट भाषण में अर्थव्यवस्था के सभी क्षेत्रों को समाहित करते हुए जो प्रस्ताव किए गए हैं, उन्हें बड़ी संख्या में लोगों ने स्वीकृति दी है।

सर्वेक्षण में संकेत मिला है कि लोग बेरोजगारी दूर करने के लिए बजट में किए गए प्रयासों से संतुष्ट नहीं हैं। बेरोजगारी इस समय 45 साल के सबसे ऊपर है।

केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण के 2 घंटे 40 मिनट के लंबे बजट भाषण में अर्थव्यवस्था के सभी क्षेत्रों को समाहित करते हुए जो प्रस्ताव किए गए हैं, उन्हें बड़ी संख्या में लोगों ने स्वीकृति दी है

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को संसद में वित्त वर्ष 2020-21 के लिए बजट पेश किया। बजट के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रशंसा की।

निर्मला सीतारमण ने कहा कि बैंक जमा राशि पर गारंटी बढ़ा दी गई है। उन्होंने कहा कि बैंक जमा पर गारंटी की सीमा तीन लाख रुपये से बढ़ाकर पांच लाख रुपये कर दी गई है।

इसके अलावा केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को संसद में बजट पेश करते हुए कहा कि वित्तवर्ष 2020-21 में कृषि ऋण का लक्ष्य 15 लाख करोड़ रुपये रखा गया है।

मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का ये पहला आम बजट है। बजट पेश करने के दौरान पीएम मोदी और गृह मंत्री समेत मोदी सरकार के तमाम मंत्री सदन में उपस्थित रहे।

आर्थिक सर्वेक्षण 2019-20 में शुक्रवार को कहा गया कि देश की अर्थव्यस्था में सुधार हो सकता है और जीडीपी वृद्धि दर वित्त वर्ष 2021 में 6 से 6.5 फीसदी हो सकती है।

इसके पहले सरकार की तरफ से आर्थिक सर्वेक्षण पेश किया जाता है। ऐसे में यह देखना जरूरी होगा कि क्या आर्थिक सर्वेक्षण जारी होने से भारतीय अर्थव्यवस्था से जुड़े सच को उजागर करने में कामयाबी मिल पाएगी या नहीं।