नेताजी सुभाष चंद्र बोस

Mamata Banerjee: ममता बनर्जी(Mamata Banerjee) ने अपने पत्र में पीएम नरेंद्र मोदी(PM Modi) से अपील की है कि, इस बात को सार्वजनिक डोमेन में लाया जाय कि नेताजी के साथ क्या हुआ था। बता दें कि नेताजी को लेकर इस तरह की मांग पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव से भी जोड़कर देखी जा रही है।

देश की आजादी के आंदोलन में अहम भूमिका निभाने वाले नेताजी सुभाष चंद्र बोस (Neta ji subhash chandra bose) की पुण्यतिथि पर खास उत्साह दिखने के बजाय मौन छाया दिखाई पड़ता है।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) ने आजाद हिंद फौज के संस्थापक और राष्ट्रनायक नेताजी सुभाष चंद्र बोस की पुण्यतिथि (Netaji Subhash Chandra Bose's death anniversary) पर उन्हें याद किया और श्रद्धांजलि दी।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, "भारत, नेताजी सुभाष चंद्र बोस की बहादुरी और उपनिवेशवाद का विरोध करने में उनके योगदान का हमेशा आभारी रहेगा। वह अपने भारतीय साथियों के विकास और भलाई के लिए हमेशा डटे रहे।"

बावजूद विष्णु सहाय आयोग ने लिखा है कि इस बात की पुष्टि नही की जा सकती कि गुमनामी बाबा ही सुभाष चंद्र बोस थे। इसकी वजह देरी से शुरू की गई पड़ताल है। यह पड़ताल गुमनामी बाबा की मृत्यु के 31 साल बाद शुरू की गई।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुधवार यानि आज नेताजी की 122वीं जयंती के मौके पर लाल किले के अंदर भारतीय स्वतंत्रता संघर्ष की गाथा को बखान करने वाले तीन नए संग्रहालयों का उद्घाटन करेंगे।

नई दिल्ली। रविवार को पहली बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अंडमान-निकोबार पहुंचे, यहां उन्होंने कई परियोजनाओं की नींव रखी। यात्रा में पीएम...