पंजाब

कांग्रेस पार्षद राकेश चौधरी के भाई और उनके सहयोगी के जरिए महिला की पिटाई की वारदात को अंजाम दिया है। महिला की पिटाई पैसे उधार देने के मुद्दे पर की गई।

पंजाब के संगरूर जिले के गांव भगवानपुरा निवासी सुखविंदर सिंह का बेटा फतेहवीर गुरुवार शाम को 150 फीट गहरे बोरवेल में गिर गया था। 10 साल पुराने बोरवेल को कट्टे से ढककर रखा गया था, लेकिन बारिश पड़ने से वह कमजोर हो चुका था। खेलते-खेलते बच्चे का पैर उस पर आ गया और उसके दबाव से कट्टा बोरवेल में धंसता चला गया। उसके साथ फतेहवीर भी बोरवेल में गिरता चला गया।

पार्टी सूत्रों ने यहां सोमवार को यह संभावना प्रकट की। सूत्रों ने कहा कि वरिष्ठ नेता पटेल को पार्टी के व्यापक हित में यह जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है।

राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) और भारतीय सेना और जिला प्रशासन के कर्मचारियों को मिलाकर कुल 26 सदस्य सुनाम प्रखंड के भगवानपुरा में बचाव अभियान में जुटे हैं।

कैप्टन से पंगा सिद्धू को महंगा पड़ गया है। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने नवजोत सिंह सिद्धू को शहरी विकास मंत्रालय से हटा दिया है। उसकी जगह अब ऊर्जा मंत्रालय दिया गया है। तो वहीं ये भी कहा जा रहा है कि सिद्धू को पर्यटन मंत्रालय दिया जा सकता हैं, लेकिन अब उनके पास ऊर्जा मंत्रालय का जिम्मा रहेगा।

बता दें कि 17 वीं लोकसभा के लिए एनडीए गठबंधन कुल 353 सीटें जीतने में सफल रहा है। भाजपा ने इस बार के चुनाव में अपने दम पर 300 के आंकड़े को हासिल किया है। भाजपा के खाते में अपने दमपर 303 सीटें हासिल की हैं। कांग्रेस की बात करें तो पार्टी ने 52 सीटें जीती हैं। यूपीए के हिस्से में कांग्रेस को मिलाकर 85 सीटें मिली हैं।

पाकिस्तान के पंजाब में लोगों ने सदियों पुराने गुरु नानक महल का एक बड़ा हिस्सा तोड़ दिया। ना सिर्फ पवित्र महल को तोड़ा गया बल्कि उसकी कीमती खिड़कियां और दरवाजे भी बेच दिए। पाक अखबार डॉन की रिपोर्ट के मुताबिक, इस 4 मंजिला इमारत की दीवारों पर सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव के अलावा हिंदू शासकों और राजकुमारों की तस्वीरें थीं।

इसी कड़ी में पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कांग्रेस की हार का सबसे बड़ा जिम्मेदार नवजोत सिंह सिद्धू को बताया। इतना ही नहीं उन्होंने कांग्रेस से कह दिया है कि अब पार्टी को उनमें या नवजोत सिंह सिद्धू में से किसी एक को चुनना होगा।

2014 की मोदी लहर के बाद 2019 में मोदी सुनामी के बीच भी पंजाब ही इकलौता कांग्रेस का ऐसा राज्य है जहां कांग्रेस बेहतर प्रदर्शन कर पाई है। 2014 के जनादेश को पछाड़ते हुए इस बार के रुझानों में बीजेपी अकेले ही 300 सीटों का आंकड़ा पार करती दिख रही है।

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के नवजोत सिद्धू के बयान के बाद से पंजाब कांग्रेस में घमासान बढ़ गया है। पंजाब के एक और मंत्री ने सिद्धू की आलोचना की है। पंजाब के स्वास्थ्य मंत्री ब्रह्मा मोहिंद्रा ने हाईकमान से सिद्धू पर गंभीरता से फ़ैसला करने की मांग की है। दरअसल, कैप्टन अमरिंदर सिंह ने नवजोत सिंह सिद्धू पर निशाना साधते हुए कहा था कि वह उनकी जगह सीएम बनने का सपना संजो रहे हैं और उनकी अनुशासनहीनता को पार्टी बर्दाश्त नहीं करेगी।