पटियाला हाउस कोर्ट

इससे पहले पटियाला हाउस कोर्ट स्थित अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश धर्मेंद्र राणा ने दोषी मुकेश की इस मांग को खारिज कर दिया था। निचली अदालत के इस फैसले के खिलाफ दोषी ने उच्च न्यायालय में अपील दाखिल की थी।

निर्भया के दोषी मौत के मुंह में पहुंच चुके हैं। मगर पैंतरे चलने से बाज नहीं आ रहे हैं। दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट उनका अंतिम डेथ वारंट जारी कर चुकी है।

निर्भया के दोषियों की डेथ वारंट पर रोक लगाए जाने की मांग करने वाली याचिका को पटियाला हाउस कोर्ट ने सोमवार को खारिज कर दिया। इस बीच, सुप्रीम कोर्ट से क्यूरेटिव पिटिशन खारिज होने के बाद दोषी पवन कुत्ता ने राष्ट्रपति के पास दया याचिका दाखिल की है।  

निर्भया के गुनाहगार फांसी टलवाने की लगातार कोशिश कर रहे हैं। इसी सिलसिले में अब इन गुनाहगारों ने एक नया तरीका निकाला है। निर्भया के दोषी विनय शर्मा के वकील एपी सिंह ने विनय की दया याचिका खारिज करने पर सवाल उठाते हुए याचिका दायर की है।

बता दें कि सोमवार को निर्भया के दोषियों के खिलाफ नए डेथ वारंट जारी करने की दिल्ली सरकार, तिहाड़ जेल प्रशासन और निर्भया के माता-पिता की याचिका पर पटियाला हाउस कोर्ट में सुनवाई हुई।

निर्भया केस में दिल्ली हाईकोर्ट के सामने केंद्र सरकार ने दोषियों को अलग-अलग फांसी देने की अर्जी लगाई थी। जिसको लेकर फैसला सुरक्षित रख लिया गया था।

जानकारी यह भी मिली है कि शरजील इमाम देश छोड़कर भागने की तैयारी में था। पुलिस का शिकंजा कसने के बाद वह बिहार में अपने घर के पास स्थित एक इमामबाड़े में जाकर छिप गया था। उसे कई राज्यों की पुलिस देश के अलग-अलग हिस्सों में तलाश रही थी। सुराग मिलते ही दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच की एक टीम ने उसे उसके घर के पास वाले इमामबाड़े से दबोच लिया।

एक बार फिर से निर्भया केस में दोषियों की फांसी टल गई है। इन दोषियों को कल(1 फरवरी को) फांसी होनी थी। इस मामले में इससे पहले पटियाला हाउस कोर्ट ने निर्भया के दोषियों की फांसी पर डेथ वारंट जारी किया था।

कोर्ट के फैसले के बाद निर्भया की मां रोने लगी और उन्होंने कहा कि, दोषियों को फांसी से न्याय व्यवस्था में भरोसा बढ़ेगा। मेरी बेटी को न्याय मिला है। सात साल का आंसू भरा इंतजार भी खत्म हुआ।

गौरतलब है कि पटियाला हाउस कोर्ट में जब इस मामले पर सुनवाई हो रही थी तब निर्भया की मां और दोषी मुकेश के बीच बहस देखने को मिली।