पत्रकार

लॉकडाउन के दौरान पूरा देश मानो ठहर सा गया है जो जहां है वहीं रूका हुआ है। लोग अपनों से दूर हैं तो उनके लिए परेशानी और ज्यादा बड़ी है।

उपन्यास का शीर्षक दिया गया है 'नैना'। किताब को अपनी कलम से शब्दों के जरिए पन्ने पर उभारा है टीवी जगत के मशहुर पत्रकार संजीव पालीवाल ने।

दिल्ली के शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में लगभग एक महीने से ज्यादा समय से प्रदर्शन चल रहा है। इस प्रदर्शन में बार-बार मीडिया के लोगों के साथ बदतमीजी की खबरें सामने आती रही हैं।

पत्रकार प्रिया रमानी ने शनिवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री एम.जे. अकबर की तरफ से दायर मानहानि मामले में एक गवाह के रूप में अपना बयान दर्ज करवाया।

जिस सड़क पर दुर्घटना हुई, उससे मुख्यमंत्री और राज्यपाल जैसे वीवीआईपी लोग अक्सर गुजरते हैं। लेकिन पुलिस ने कहा कि क्षेत्र में कई सीसीटीवी कैमरा काम नहीं करते हैं। एक प्रत्यक्षदर्शी ने मीडिया से कहा, "तेज रफ्तार कार ने मुझे पीछे करते हुए बाइक में टक्कर मार दी। कार चालक नशे में था। उसके साथ एक महिला भी थी।"

पुलिस प्रमुख ने प्रथमदृष्टया जांच परिणाम के आधार पर उक्त पुलिसकमियों को गैर जोन में स्थानांतरित किए जाने के लिए भी पुलिस मुख्यालय को संस्तुति भेजने का निर्णय लिया है।

नोटिस के मुताबिक, कुछ जर्नलिस्ट जो गलत चीजें फैला रहे हैं और क्रिमिनल एक्ट में शामिल हो रहे हैं उनका साथ न दिया जाए। बताते चलें कि पत्रकार से विवाद के बाद एंटरटेनमेंट जर्नलिस्ट्स गिल्ड ऑफ इंडिया ने कंगना रनौत और निर्माताओं को पत्रकार से माफी मांगने को कहा था।

यांगून के बाहरी इलाके में बनी जेल से रिहा होने के बाद वा लोन ने बीबीसी से कहा कि वे पत्रकारिता करने से कभी पीछे नहीं हटेंगे। लोन और सू ओ को ऑफिशियल सीक्रेट्स एक्ट का उल्लंघन करने का दोषी पाया गया था और पिछले साल सितंबर में उन्हें सात साल जेल की सजा सुनाई गई थी।

केरल के जवान रॉय मैथ्यू का स्टिंग करने वाली ‘द क्विंट’ की महिला पत्रकार पूनम अग्रवाल के खिलाफ मामला दर्ज होने के बाद आज इसमें बॉम्बे हाईकोर्ट ने एक बड़ा फैसला सुनाया है।

लोकसभा चुनावों की तारीख पास आते-आते सभी राजनेताओं के तेवर बदलते जा रहे हैं। राहुल गांधी ने बुधवार को जब एक पत्रकार को घायल अवस्था में देखा जो एक सड़क हादसे में चोटिल हो गए थे, उन्होंने तुरंत अपना वाहन रुकवाया औऱ घायल पत्रकार को अस्पताल ले गए।