पाकिस्तान

ICJ के आदेशों का पालन करने को लेकर सरकारी सूत्र भी कहते हैं कि पाकिस्तान इन नियमों का पालन करेगा। दरअसल इसके पीछे पाकिस्तान की आर्थिक हालत भी वजह है कि उसे नियमों का पालन करना ही पड़ेगा।

विदेश मंत्री ने पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव मामले में अंतरराष्ट्रीय अदालत के फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि, 'हम एक बार फिर पाकिस्तान से जाधव को रिहा करने और भारत वापस भेजने का आग्रह करते हैं।'

यह गलियारा पाकिस्तान के करतारपुर में दरबार साहिब को गुरदासपुर जिले में डेरा बाबा नानक गुरुद्वारे को जोड़ेगा। भारतीय सिख श्रद्धालु इससे वीजा मुक्त आवाजाही कर पाएंगे।

अंतरराष्ट्रीय अदालत में भारत की तरफ से कुलभूषण का केस लड़ रहे हरीश साल्वे का कहना है कि अगर पाकिस्तान ने नियमों का उल्लंघन किया तो ठीक नहीं होगा। पाक द्वारा कोर्ट के फैसले का पालन नहीं करने पर और भी उपाय उपलब्ध हैं।

विदेश मामलों की समिति ने ट्वीट किया, पाकिस्तान पिछले 10 साल से हाफिज की कोई खोज नहीं कर रहा था। वह देश में आजादी से रह रहा था। उसे कई बार गिरफ्तार किया गया और छोड़ भी दिया गया।

हाफिज सईद की गिरफ्तारी को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की ट्रंप से मुलाकात से पहले पाकिस्तान द्वारा अमेरिका से संबंध बेहतर करने की कोशिश से भी जोड़ कर देखा जा रहा है। 

जासूसी के आरोप में पाकिस्तान की जेल में बंद कुलभूषण जाधव ऐसे इकलौते भारतीय नहीं है जिनके साथ पाकिस्तान छल कर चुका है, ऐसे कुछ और भारतीय हैं जो पाक के जाल में फंसकर अपनी जान तक गंवा चुके हैं।

पाकिस्तानी पत्रकार एसोसिएशन ने देश की ताकतवर सुरक्षा सेवाओं द्वारा बड़े पैमाने पर सेंसरशिप,बजट में कटौती से बड़े पैमाने पर छंटनी और अपने वेतन के भुगतान में महीनों की देरी के विरोध को लेकर देशव्यापी प्रदर्शन कर रहे हैं।

पाकिस्तान की एक मजबूरी ये भी है कि वो आर्थिक रूप से खस्ता हाल हुआ है। इस हालत में वो किसी तरह की पाबंदी झेल पाने की स्थिति में नहीं है, इसलिए वह नहीं चाहते हुए भी खुद के पाले-पोषे आतंकियों पर कार्रवाई का दिखावा करने पर मजबूर है। 

कुलभूषण जाधव को रिहा करने के लिए भारत की तरफ से अनुरोध किया गया है जिसपर पाकिस्तान के कानून विशेषज्ञों का कहना है कि आईसीजे कुलभूषण जाधव को रिहा करने के भारतीय अनुरोध को ठुकरा देगा।