पीएम मोदी

बुधवार को तमिलनाडु भाजपा ने पीएम और गृहमंत्री के खिलाफ 'भड़काउ' टिप्पणी करने के लिये तमिल वक्ता नेल्लई कन्नन की गिरफ्तारी की मांग करते हुए बुधवार को यहां प्रदर्शन किया।

तुमकुर में एक कार्यक्रम के दौरान पीएम मोदी ने महिला सम्मान का एक आदर्श उदाहरण पेश किया। स्टेज पर अवॉर्ड देते वक्त पीएम मोदी आगे बढ़कर एक महिला के पैरों में झुक गए जिसे देखकर सभी हैरान रह गए।

पीएम का देशभर के किसानों को न्यू ईयर गिफ्ट देने की घोषणा तो कर दी लेकिन पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के कारण बंगाल के किसानों को यह लाभ नहीं मिलेगा।

नये साल के आगाज पर उन्होंने लोगों से शांति और भाईचारा बनाए रखने की अपील करते हुए कहा कि भारत एक बगीचा है, जिसमें हर तरह के फूल हैं, हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई आदि ये फूल हैं और सब फूल को खिलने का मौका मिले।

जनरल बिपिन रावत के CDS बनने को लेकर सरकारी सूत्रों का कहना है कि पीएम मोदी ने रावत को लोक कल्याण मार्ग स्थित प्रधानमंत्री आवास पर फेयरवेल डिनर दिया था।

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह ने विपक्ष की निराधार आशंकाओं और विभ्रम को दूर करने के लिए लगातार इस विषय को स्पष्ट किया है। हालांकि, इस संदर्भ में यह कहावत भी सत्य और समीचीन प्रतीत होती है कि जो सो रहा है उसे तो जगाया जा सकता है, मगर जो सोने का ढोंग कर रहा है उसे कैसे जगाया जाए?

पीएम मोदी ने कहा कि क्या हम संकल्प ले सकते हैं कि 2022 तक जब आजादी के 75 वर्ष पूरे होंगे, इन 2-3 साल हम स्थानीय उत्पाद खरीदने के आग्रही बनें? भारत में बना, जिसमें हमारे देशवासियों के पसीने की महक हो, ऐसी चीजों को खरीदने का हम आग्रह कर सकते हैं क्या?

मौजूदा समय में 2.5 लाख रुपये तक की सालाना आमदनी टैक्स फ्री है। 2.5 लाख से 5 लाख रुपये तक की आमदनी पर 5 फीसदी की दर से, 5-10 लाख रुपये तक की आमदनी पर 20 फीसदी और 10 लाख रुपये से ज्यादा की आमदनी पर 30 फीसदी की दर से टैक्स लगाया जाता है।

रामनगरी अयोध्या में आतंकी हमले की तैयारी की जा रही है। जी हां, सूत्रों की मानें तो, खुफिया एजेंसियों ने जैश-ए-मोहम्मद के एक मैसेज को इंटरसेप्ट किया है। सूत्रों की अनुसार, जैश-ए-मोहम्मद से जुड़े टेलीग्राम चैनल पर खुफिया एजेंसियों ने जैश चीफ मसूद अजहर का मैसेज इंटरसेप्ट किया है।

घुसपैठियों को लेकर पीएम मोदी ने कहा कि, "एक घुसपैठिया कभी अपनी पहचान नहीं बताता है और एक शरणार्थी कभी अपनी पहचान छुपाता नहीं है। ऐसे कई घुसपैठिये बाहर आ रहे हैं और बोल रहे हैं, वे अपनी सच्चाई क्यों नहीं बताते हैं, वे डरे हुए हैं क्योंकि उनकी हकीकत सामने आ जाएगी।"