पीएम मोदी

34th PRAGATI interaction: इसकी जानकारी पीएम मोदी(PM Modi) ने ट्वीट के जरिए देते हुए बताया कि, प्रगति बैठक के दौरान 1 लाख करोड़ रुपए की परियोजनाओं पर चर्चा हुई। इसके अलावा आयुष्मान भारत योजना के साथ-साथ जल जीवन मिशन को और सशक्त करने के तरीकों पर भी चर्चा हुई।

Farmer Protest: इस तरह सरकार के मंत्रियों ने ये संदेश भी दिया कि किसानों(Farmers) के साथ ये सरकार पूरी तरह से उनके हित के लिए खड़ी है। इतना ही नहीं अपने बीच मंत्रियों(Cabinet Ministers) को लाइन में लगा देख किसानों के अंदर उनके साथ सेल्फी लेने की चाहत भी दिखी।

Farmers Letter to the Government: कृषि मंत्रालय के सचिव संजय अग्रवाल(Sanjay Agrawal) को लिखे पत्र में किसान संगठनों के संयुक्त किसान मोर्चा(Kisan Sanyukt Morcha) ने कहा, "बैठक के लिए हमारी ओर से भेजे गए प्रस्ताव को स्वीकार करने के लिए आपका धन्यवाद।

Freight Corridor: मुख्यमंत्री(CM Yogi) ने फ्रेट कोरिडोर को प्रदेश के लिए बड़ा उपहार बताते हुए प्रधानमंत्री मोदी(PM Modi) का आभार प्रकट किया। फ्रेट कोरिडोर का लगभग 75 प्रतिशत हिस्सा उत्तर प्रदेश से गुजरता है।

Arunachal Local Bodies Polls: अरुणाचल प्रदेश(Arunachal Prdesh) में हुए इस चुनाव की बात करें तो 242 जिला परिषद सीटों और 8,175 ग्राम पंचायत सीटों के लिए 22 दिसंबर को 73 फीसद मतदान हुआ था।

Farmers Meeting: किसान नेता राकेश टिकैत(Rakesh Tikait) ने कहा कि हम सरकारी प्रस्ताव को ठुकरा चुके हैं, अब चर्चा कानून वापस लेने और स्वामीनाथन रिपोर्ट पर होनी चाहिए। अभी हमारे आंदोलन को 33 दिन हुए हैं, सरकार नहीं मानी तो 66 दिन भी हो जाएंगे।

Kashmiri Kesar: पीएम मोदी(PM Modi) ने मन की बात में लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि, आपको जानकर खुशी होगी कि कश्मीर केसर को जीआई टैग का सर्टिफिकेट मिलने के बाद दुबई के एक सुपर मार्केट में इसे लांन्च किया गया।

Mann Ki Bat: पीएम मोदी(PM Modi) ने कहा कि मुझे कई देशवासियों के पत्र मिले हैं। अधिकतर पत्रों में लोगों ने देश के सामर्थ्य, देशवासियों की सामूहिक शक्ति की भरपूर प्रशंसा की है।

Modi Government: किसानों के इस प्रदर्शन को समर्थन दे रहे राजनीतिक दलों की भी सक्रियता काफी बढ़ गई है। बता दें कि कांग्रेस(Congress) की तरफ से किसानों को ढाल बनाकर मोदी सरकार(Modi Government) पर लगातार हमले किए जा रहे हैं।

Farm Laws: राकेश टिकैत(Rakesh Tikait) ने कृषि कानून पर सरकार के रवैये को लेकर कहा कि, “कृषि कानून पर बातचीत करने को तैयार हैं, लेकिन ये तो नहीं बोले कि हम कृषि कानून(Farm Laws) वापस ले लेंगे।