पीएलए

मॉस्को में भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) और चीनी रक्षा मंत्री के बीच मुलाकात चीनी प्रशासन के अनुरोध पर हुई है।

चीनी आक्रामकता का जवाब देने के लिए भारत ने पड़ोसी देश के साथ लगती सीमा पर और 35 हजार सैनिक बढ़ाने का फैसला किया है।

आंध्र प्रदेश में एक दूसरी परियोजना है, जिसे लेकर भी मौजूदा परिदृश्य में सुरक्षा के मुद्दे खड़े हुए हैं। चाइना इलेक्ट्रॉनिक्स टेक्नोलॉजी ग्रुप कॉरपोरेशन (सीईटीसी) ने आंध्र प्रदेश के श्री सिटी में 2018 में 200 मेगावाट की पीवी विनिर्माण सुविधा में लाखों डॉलर के निवेश की घोषणा की थी।

भारत अपनी तरफ से चीन के मौजूदा रवैये पर सख्त आपत्ति जता चुका है। भारतीय सेना ने चीन की पीएलए को साफ संदेश दे दिया है कि फिंगर-8 से वह पीछे जाएं और अप्रैल से पहले की स्थिति को बहाल किया जाए।

पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में एक बार फिर से पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) द्वारा अतिक्रमण की खबरें आ रही हैं। सूत्रों से मिल रही जानकारी के मुताबिक, गलवान घाटी में भारतीय और चीनी सेनाओं के बीच जहां 15 जून की रात झड़प हुई थी, वहीं पर चीनी सैनिक फिर से पहुंच गए हैं और टेंट लगा दिए हैं।

लद्दाख की गलवान घाटी में सोमवार रात भारत और चीन की सीना में हिंसक झड़प में पर शीर्ष अमेरिकी सांसद ने भी माना है कि पीएलए ने भारतीय क्षेत्र को कब्जाने के इरादे से झड़प शुरू की। उन्होंने कहा है कि ऐसा प्रतीत होता है कि चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी ने भारतीय क्षेत्र पर कब्जा करने के इरादे से झड़प शुरू की।