पीयूष गोयल

अगर कैग के इस आंकडे़ को आसान भाषा में समझें तो  रेलवे 98 रुपये 44 पैसे लगाकर सिर्फ 100 रुपये की कमाई कर रही है। यानी कि रेलवे को सिर्फ एक रुपये 56 पैसे का मुनाफा हो रहा है जो व्यापारिक नजरिए से सबसे बुरी स्थिति है।

रेलवे के निजीकरण की चर्चाओं के बीच रेल मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को बड़ा बयान दिया। उन्होंने कहा कि रेलवे भारत और भारतीयों की संपत्ति है और आगे भी रहेगी।

राहुल गांधी ने ट्वीट किया, "प्रिय बनर्जी ये धर्माध लोग नफरत में अंधे हो चुके हैं। इन्हें नहीं पता कि पेशेवर कुशलता क्या होती है। यदि आप एक दशक तक भी कोशिश करें तो भी आप इन्हें यह नहीं समझा पाएंगे।"

दिल्ली में गुुुरुवार को बोर्ड ऑफ ट्रेड की दूसरी बैठक को संबोधित करते हुए पीयूष गोयल ने कहा कि जरूरी नहीं कि सभी आयात बुरे हों और हमें जरूरी और गैर जरूरी में बांटकर आयात की इजाजत देनी होगी ताकि देश की जनता की मदद हो सके।

रेल मंत्री पीयूष गोयल की तरफ से जो रिपोर्ट कार्ड पेश किया गया वो आम जनता को जरूर सुखद लगेगा। बता दें कि रेल मंत्री की तरफ से पेश किए रिपोर्ट कार्ड में बताया गया है कि मोदी सरकार के शुरुआती 100 दिनों में यात्रियों की सुरक्षा का खास ध्यान रखा गया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने रूस दौरे पर फोटो सेशन के दौरान उनके बैठने के लिए विशेष रूप से लाए गए सोफे पर बैठने से इंकार कर दिया और अन्य लोगों के साथ बैठने के लिए साधारण कुर्सी मंगाई।

यदि आप नदी के नीचे रेल यात्रा करना चाहते हैं तो जल्द ही आपकी ये इच्छा पूरा हो सकती है। भारत में नदी के नीचे चलने वाली पहली मेट्रो रेल लाइन का काम लगभग पूरा हो रहा है।

गोयल मंच से कलमा पढ़कर भी सुना रहे हैं- ला इलाहा इल्लल्लाह मुहम्मदुर रसूलुल्लाह। सोशल मीडिया यूजर्स इस वीडियो पर अलग-अलग तरह से रिएक्ट कर रहे हैं।

रेल मंत्रालय ने गरीब रथ एक्सप्रेस ट्रेन का परिचालन बंद करने की खबरों को खारिज करते हुए शुक्रवार को कहा कि ऐसी कोई योजना नहीं है। रेल मंत्रालय ने एक बयान में कहा, "यह स्पष्ट किया जाता है कि गरीब रथ की सेवा बंद करने का कोई प्रस्ताव नहीं है।"

रेलमंत्री पीयूष गोयल ने शनिवार को कहा कि भारतीय रेल के कुछ खंडों को निवेश के वास्ते निजी क्षेत्र के लिए खोला जा सकता है। उन्होंने कहा कि निजी क्षेत्र लाइसेंस फीस के बदले में इन खंडों पर अपने रेलमार्ग का संचालन कर सकता है।