पुलवामा हमला

Pulwama terror attack anniversary: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमें अपने सुरक्षा बलों पर गर्व है। उनकी बहादुरी से पीढ़ियों को प्रेरणा मिलती रहेगी। 14 फरवरी, 2019 को पाकिस्तानी आतंकियों ने पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हमला किया था। जिसमें 40 जवान शहीद हो गए थे। हादसा उस वक्त हुआ, जब सीआरपीएफ जवान 78 वाहनों में सवार होकर जम्मू से श्रीनगर जा रहा थे।

Pulwama Attack 2 Anniversary: अरविंद केजरीवाल ने रविवार को ट्वीट करते हुए लिखा, पुलवामा हमले में शहीद हुए देश के वीर जवानों की शहादत को नमन, हम सभी देशवासी उनके साहस और बलिदान के सैदव ऋणी रहेंगे।

#PulwamaAttack : जम्‍मू-कश्‍मीर के पुलवामा में आज से दो साल पहले 14 फरवरी 2019 को आतंकवादी हमला (Pulwama Attack 2nd Anniversary) हुआ था।पुलवामा हमले की दूसरी बरसी पर पूरा देश शहीद जवानों को याद कर रहा है। वहीं, देश के खेल जगत ने शहीदों को नमन किया है।

2 years of Pulwama Terror Attack: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने पुलवामा हमले में जान गंवाने वाले सीआरपीएफ के जवानों को श्रद्धांजलि दी। राजनाथ सिंह ने अपने ट्वीट में लिखा, "भारत राष्ट्र के लिए उनकी सेवा और सर्वोच्च बलिदान को कभी नहीं ​भूलेगा।"

Pulwama Attack 2 Anniversary: बहादुरों के बलिदान को याद करते हुए देशवासियों ने जवानों को श्रद्धांजलि दे रहे है, जिन्होंने राष्ट्र के लिए अपने प्राण न्यौछावर कर दिए। वहीं इस समय #PulwamaAttack ट्विटर पर ट्रेंड कर रहा है।

Pulwama: फवाद(Fawad) ने कहा कि 14 फरवरी को पुलवामा(Pulwama) में जो हुआ, वह निश्चित तौर पर दहशतगर्दी थी। इस पर हमारे प्राइम मिनिस्टर ने भी बात कर ऑफर दिया था कि आप सबूत दीजिए।

Pulwama Attack: पाकिस्तान (Pakistan) के खिलाफ उरी हमले के बाद भारत ने सर्जिकल स्ट्राइक (Surgical Strike) और पुलवामा आतंकी हमले (Pulwama Attack) के बाद एयर स्ट्राइक कर उसके अंदर कितना खौफ भर दिया है यह वहां के सांसदों के संसद में दिए गए बयान से स्पष्ट हो गया है।

Pulwama Militant attack : दक्षिणी कश्मीर के पुलवामा (Pulwama) जिले में हुए आतंकवादियों के हमले में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) के दो जवान शहीद हो गए और अन्य तीन घायल हो गए। यह जानकारी अधिकारियों ने दी।

Pulwama type Attack Averted in Jammu Kashmir: आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद(Jaish-e-Mohammed) के आतंकवादियों की मौजूदगी के बारे में सूचना मिलने पर सेना(Indian Army) और CRPF के साथ पुलिस ने कार्रवाई करते हुए अवंतिपोरा(Awantipora) में गाडीखाल गांव के जंगलों के पास एक नर्सरी क्षेत्र की संयुक्त तलाशी ली।

उदित राज ने लिखा कि, "जो लोग सत्ता पाने के लिये गुजरात में नरसंहार करवा सकते हैं, वो सत्ता बनाये रखने के लिये 40 जवानों की जान का सौदा भी कर सकते हैं। इनके लिये देशभक्ति और राष्ट्रवाद जनता को भरमाने का एक टूल भर है।"