पुलवामा हमला

उदित राज ने लिखा कि, "जो लोग सत्ता पाने के लिये गुजरात में नरसंहार करवा सकते हैं, वो सत्ता बनाये रखने के लिये 40 जवानों की जान का सौदा भी कर सकते हैं। इनके लिये देशभक्ति और राष्ट्रवाद जनता को भरमाने का एक टूल भर है।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले साल जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ के 40 जवानों को शुक्रवार को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि ‘भारत उनकी शहादत को कभी नहीं भूलेगा।’

पुलवामा में फरवरी 2019 में हुए आतंकी हमले को लेकर बड़े खुलासे सामने आ रहे हैं। पुलवामा हमले के मुख्य आरोपी आदिल डार के भाई समीर डार ने पूछताछ में कई अहम जानकारियां दी हैं।

जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान की शह पर एक बार फिर पुलवामा जैसा हमला करने की तैयारी थी। आतंकी एक बार फिर पुलवामा जैसा भीषण हमला करने की फिराक में थे। आतंकियों ने सेना के काफिले को निशाना बनाने के लिए अनंतनाग में आईईडी बिछा दी थी।

जनवरी से अगस्त 2019 के दौरान भारत से पाकिस्तान को चाय का निर्यात सिर्फ 48 लाख डॉलर (करीब 34 करोड़ रुपये) मूल्य के 31.4 लाख किलोग्राम का हुआ है।

अब जो बड़ी जानकारी सामने आई है उसके मुताबिक 14 फरवरी को सीआरपीएफ के काफिले पर हुआ हमला खुफिया एजेंसी की विफलता थी। ये बात सीआरपीएफ के आंतरिक रिपोर्ट में कही गई है। यह रिपोर्ट गृह मंत्रालय के बयान के विपरीत है।

मारा गया कमांडर 14 फरवरी को पुलवामा में हुए आतंकवादी हमले का सह-साजिशकर्ता था। जम्मू-कश्मीर पुलिस के एक अधिकारी के मुताबिक अनंतनाग जिले के बिजबेहरा में हुई मुठभेड़ में फैयाज पंजू को उसके साथियों के साथ पुलिस ने ढेर कर दिया।

पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद भारतीय वायुसेना द्वारा किए गए एयरस्ट्राइक के बाद से पाकिस्तान ने अपने एयरस्पेस को बंद कर दिया था। अब पाक ने इसे खोल दिया है और इससे एयर इंडिया को बड़ी राहत मिलने वाली है।

काबुल और कंधार में भारत के राजनयिक मिशनों और कार्यालयों को खुफिया सूचनाओं के बाद हाई अलर्ट पर रखा है, जिससे संकेत मिला है कि आतंकी समूहों जैश-ए-मोहम्मद (JeM) और लश्कर-ए-तैयबा (LeT) के बेस कैंप पाकिस्तान से अफगानिस्तान में शिफ्ट किए गए हैं। 

सेना ने लिया पुलवामा हमले का बदला, किया जैश कमांडर सज्जाद भट्ट को ढेर