पुलवामा हमला

Pulwama: फवाद(Fawad) ने कहा कि 14 फरवरी को पुलवामा(Pulwama) में जो हुआ, वह निश्चित तौर पर दहशतगर्दी थी। इस पर हमारे प्राइम मिनिस्टर ने भी बात कर ऑफर दिया था कि आप सबूत दीजिए।

Pulwama Attack: पाकिस्तान (Pakistan) के खिलाफ उरी हमले के बाद भारत ने सर्जिकल स्ट्राइक (Surgical Strike) और पुलवामा आतंकी हमले (Pulwama Attack) के बाद एयर स्ट्राइक कर उसके अंदर कितना खौफ भर दिया है यह वहां के सांसदों के संसद में दिए गए बयान से स्पष्ट हो गया है।

Pulwama Militant attack : दक्षिणी कश्मीर के पुलवामा (Pulwama) जिले में हुए आतंकवादियों के हमले में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) के दो जवान शहीद हो गए और अन्य तीन घायल हो गए। यह जानकारी अधिकारियों ने दी।

Pulwama type Attack Averted in Jammu Kashmir: आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद(Jaish-e-Mohammed) के आतंकवादियों की मौजूदगी के बारे में सूचना मिलने पर सेना(Indian Army) और CRPF के साथ पुलिस ने कार्रवाई करते हुए अवंतिपोरा(Awantipora) में गाडीखाल गांव के जंगलों के पास एक नर्सरी क्षेत्र की संयुक्त तलाशी ली।

उदित राज ने लिखा कि, "जो लोग सत्ता पाने के लिये गुजरात में नरसंहार करवा सकते हैं, वो सत्ता बनाये रखने के लिये 40 जवानों की जान का सौदा भी कर सकते हैं। इनके लिये देशभक्ति और राष्ट्रवाद जनता को भरमाने का एक टूल भर है।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले साल जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ के 40 जवानों को शुक्रवार को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि ‘भारत उनकी शहादत को कभी नहीं भूलेगा।’

पुलवामा में फरवरी 2019 में हुए आतंकी हमले को लेकर बड़े खुलासे सामने आ रहे हैं। पुलवामा हमले के मुख्य आरोपी आदिल डार के भाई समीर डार ने पूछताछ में कई अहम जानकारियां दी हैं।

जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान की शह पर एक बार फिर पुलवामा जैसा हमला करने की तैयारी थी। आतंकी एक बार फिर पुलवामा जैसा भीषण हमला करने की फिराक में थे। आतंकियों ने सेना के काफिले को निशाना बनाने के लिए अनंतनाग में आईईडी बिछा दी थी।

जनवरी से अगस्त 2019 के दौरान भारत से पाकिस्तान को चाय का निर्यात सिर्फ 48 लाख डॉलर (करीब 34 करोड़ रुपये) मूल्य के 31.4 लाख किलोग्राम का हुआ है।

अब जो बड़ी जानकारी सामने आई है उसके मुताबिक 14 फरवरी को सीआरपीएफ के काफिले पर हुआ हमला खुफिया एजेंसी की विफलता थी। ये बात सीआरपीएफ के आंतरिक रिपोर्ट में कही गई है। यह रिपोर्ट गृह मंत्रालय के बयान के विपरीत है।