पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन पर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह (Manmohan Singh) ने शोक व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि उनके निधन से देश ने आजाद भारत के महान नेताओं में से एक को खो दिया।

आखिरकार कांग्रेस (Congress) में पार्टी नेतृत्व की मांग को लेकर बवाल मचा अब थमते दिख रहा है। सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष बनी रहेंगी।

पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार को संकट दूर करने और आने वाले वर्षों में सामान्य आर्थिक स्थिति को बहाल करने के लिए तीन कदम उठाने चाहिए।

उधर, भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने प्रधानमंत्री रिलीफ फंड से भी राजीव गांधी फाउंडेशन को पैसा देने पर सवाल उठाया है। कहा है कि सोनिया गांधी की अध्यक्षता में यह फाउंडेशन पैसा लेने के लिए बनाया गया था। यह कांग्रेस के भ्रष्टाचार का उदाहरण है।

भाजपा अध्यक्ष ने आगे कहा, 'मनमोहन सिंह उसी पार्टी के हैं जिसने चीन को 43000 किमी जमीन सरेंडर कर दिया था। यूपीए शासन के दौरान बिना लड़े सरकार को सरेंडर करते हुए लोगों ने देखा है। बार-बार सेना को छोटा बताया गया था।'

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मोदी सरकार को सलाह दी है। विपक्ष के निशाने पर मोदी सरकार का बसपा प्रमुख मायावती ने बचाव किया है।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एम्स में डॉक्टर नीतीश नायक की निगरानी में थे और उन्हें गहन चिकित्सा इकाई (आईसीयू) में रखा गया था। उनका कोरोनावायरस टेस्ट भी किया गया था। उन्हें आईसीयू से एक निजी वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया था। उनका कोरोना टेस्ट निगेटिव आया था।

सोनिया गांधी ने बुधवार को कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक के दौरान सवाल किया कि 17 मई तक के राष्ट्रव्यापी बंद के बाद इससे बाहर निकलने की क्या रणनीति है। 

वेणुगोपाल ने कहा कि यह सलाहकार समूह आम तौर पर रोजाना बैठक कर (वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से) वर्तमान समय से जुड़े विषयों पर चर्चा करेगा और विभिन्न मुद्दों पार्टी का रुख तय करेगा। कांग्रेस ने 40 दिनों के बंद के दौरान देश में कोविड-19 महामारी के प्रसार से लड़ने के लिए सरकार को कई उपाय सुझाए हैं।

दिल्ली हिंसा को लेकर गुरुवार को कांग्रेस का एक प्रतिनिधिमंडल राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिलने पहुंचा। इस प्रतिनिधमंडल में कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, प्रियंका गांधी वाड्रा, रणदीप सुरेजवाला समेत कई नेता शामिल रहे।