प्रकाश जावडेकर

कोरोना से लड़ने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी हर स्तर पर प्रयास कर रहे हैं। उनका यह प्रयास रंग लाता दिखाई दे रहा है। पूरा देश लॉकडाउन में है।

बैठक के बाद मीडिया से बात करते हुए सोनिया गांधी ने कहा कि दिल्ली की मौजूदा हालात चिंताजनक है। एक साजिश के तहत हालात बिगड़े। बीजेपी नेताओं ने भड़काऊ भाषण दिए। चुनाव के दौरान नफरत फैलाया। दिल्ली की स्थिति के लिए केंद्र सरकार और गृह मंत्री अमित शाह जिम्मेदार हैं। गृह मंत्री को इस्तीफा देना चाहिए।

दिल्ली हिंसा को लेकर कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक आज हुई। बैठक में कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह मौजूद रहे।

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने अपने बयान में कहा, "केजरीवाल और उसकी पार्टी ने देश को विखंडित करने वाला बयान देने वाले टुकड़े-टुकड़े गैंग को बचा कर रखा है। शरजील इमाम के पक्ष में राजनीतिक पासे फेंके थे, लेकिन जब दिल्ली पुलिस से उसे पकड़ कर तो इनके मंसूबों पर पानी फिर गया फिर इन्होंने आप के कार्यकर्ता से गोली चलवा दी।"

केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने शनिवार को कहा था कि मोदी सरकार शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों से बातचीत के लिए तैयार है।

भाजपा ने दिल्ली विधानसभा के चुनाव प्रचार के दौरान आम आदमी पार्टी और कांग्रेस पर करारा वार किया है।

दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में रविवार को हुई हिंसा के लगभग 12 घंटों बाद केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने इसके लिए विपक्षी कांग्रेस, आम आदमी पार्टी (आप) और वाम दलों को जिम्मेदार ठहराया है।

दिल्ली चुनावों के लिए बीजेपी ने कमर कस ली है। पार्टी ने कार्यकर्ताओं के जरिए इन चुनावों में सफलता पाने का प्लान तैयार किया है। बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह खुद इन कार्यकर्ताओं से रूबरू होंगे।

बुधवार को केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने दिल्ली में पिछले महीने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ हुए हिंसक प्रदर्शन के लिए आम आदमी पार्टी (आप) और कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया।

बुधवार को केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने दिल्ली में पिछले महीने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ हुए हिंसक प्रदर्शन के लिए आम आदमी पार्टी (आप) और कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया।