प्रधानमंत्री इमरान खान

Pakistan: दरअसल पाकिस्तानी पीएम इमरान खान अपने मंत्रिमंडल के सहयोगियों और उच्च स्तर के कारोबारी प्रतिनिधिमंडल के साथ मंगलवार को दो दिवसीय दौरे पर श्रीलंका (Sri Lanka) जा रहे हैं।

Imran Khan on Gilgit Baltistan : पाकिस्तानी अखबार द एक्सप्रेस ट्रिब्यून(The Express Tribune) से अली अमीन(Ali Amin) ने कहा है कि जल्द ही इस क्षेत्र का दौरा प्रधानमंत्री इमरान खान(PM Imran Khan) करेंगे और इसका औपचारिक ऐलान करेंगे।

पाकिस्तान (Pakistan) के प्रधानमंत्री इमरान खान (PM Imran Khan) को बड़ा झटका लगा है। दरअसल इमरान खान के करीबी लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) असीम सलीम बाजवा (Asim Saleem Bajwa) ने पीएम के सलाहकार पद से इस्‍तीफा दे दिया है।

पाकिस्तान (Pakistan) के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी (Foreign Minister Shah Mehmood Qureshi) ने कश्मीर (Kashmir) विवाद के संबंध में सऊदी अरब (Saudi Arabia) के नेतृत्व वाले इस्लामिक सहयोग संगठन (OIC) के खिलाफ बयान दिया था, जिसके बाद सऊदी की ओर से तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की गई थी।

पाकिस्तान (Pakistan) और चीन (China) की दोस्ती से तो पूरी दुनिया वाकिफ है। पाकिस्तान के हक में चीन हमेशा खड़ा रहता है तो वहीं पाक चीन के विरूद्ध कभी खड़ा नहीं होता।

इस वीडियो को अब तक एक लाख से ज्यादा बार देखा जा चुका है। ये वीडियो पाकिस्तान के खैबर मंडी खास जिले का है। वीडियो में भीड़ को रोपे गए पौधों को उखाड़कर फेंकते देखा जा सकता है।

बता दें कि घोर आर्थिक तंगी झेल रहे पाकिस्तान को उबारने के लिए इमरान सरकार ने वर्ष 2018 में सऊदी अरब से 6.2 अरब डॉलर यानी करीब 46 हजार करोड़ रुपये का कर्ज लिया था। इस उधार में 3.2 अरब डॉलर यानी करीब 24 हजार करोड़ रुपये की राशि का तेल कर्ज में देने का प्रावधान किया गया था।

टीम भारत ने सोशल मीडिया पर ये दस्तावेज में शेयर किए हैं। इसके मुताबिक पाकिस्तानी सेना ने एक लंबा-चौड़ा प्लान बनाया है। 5 अगस्त को कई चरणों में इसे अंजाम दिया जाएगा। सबका मकसद एक ही है भारत के खिलाफ अशांति भड़काना।

एपीपीजीके में विभिन्न दलों के ब्रिटिश सांसद हैं जिनमें से कुछ पाकिस्तानी मूल के हैं। इनका उद्देश्य 'कश्मीरियों के आत्मनिर्णय के अधिकार का समर्थन करना, ब्रिटेन के सांसदों से समर्थन प्राप्त करना, कश्मीर में मानवाधिकारों के हनन को उजागर करना और वहां के लोगों को न्याय दिलाना' है।

भारत ने पाकिस्तान को याद दिलाया कि उनके प्रधानमंत्री इमरान खान ने सार्वजनिक रूप से पाकिस्तान में 40,000 आतंकवादियों की उपस्थिति को स्वीकार किया था।