बसंत पंचमी

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बसंत पंचमी के मौके पर गुरुवार तड़के प्रयागराज में गंगा और यमुना नदी के मिलन स्थल संगम में डुबकी लगाई। पवित्र संगम में डुबकी लगाने वालों में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह और अन्य लोगों ने भी डुबकी लगाई।

मुख्यमंत्री ने संगम के तट पर पूजा भी की और उसके बाद सेल्फी पॉइंट पर फोटो भी खिंचवाईं। इसके साथ ही बैलून उड़ाकर स्वच्छता का सन्देश दिया। इस अवसर पर उन्होंने पतंग भी उड़ाई।

बसंत पंचमी का दिन ज्ञान की देवी मां सरस्वती को समर्पित है। इस दिन मां सरस्वती की पूजा का विधान है। सरस्वती मां को ज्ञान, कला और संगीत की देवी कहा जाता है।

वसंत को ऋतुओं यानी मौसमों का राजा कहा जाता है। इसे प्यार का मौसम भी कहते हैं, क्योंकि धरती इस मौसम में खूबसूरत फूलों का श्रंगार करती है। इस दिन देश के अलग-अलग हिस्सों में कई उत्सव मनाने का भी रिवाज है। वसंत पंचमी पर मां सरस्वती की पूजा की जाती है और बच्चों की पढ़ाई का आरंभ भी किया जाता है।

सर्दी के महीनों के अंत होने के साथ ही और बसंत और फसल की शुरूआत होने के रूप में बसंत पचंमी का त्योहार मनाया जाता है। इस साल बसंत पचंमी का त्योहार 10 फरवरी को मनाया जाएगा।