बाबरी मस्जिद

कार्तिक महीने में अयोध्या श्रद्धालुओं से भर चुकी है। एक अनुमान के मुताबिक 15 से 20 लाख श्रद्धालु अयोध्या में मौजूद हैं। अयोध्या इस समय हाईअलर्ट पर है।

देश में मुसलमानों के प्रमुख संगठन जमीयत उलेमा ए हिन्द ने बुधवार को कहा कि राम जन्म भूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद पर उच्चतम न्यायालय का फैसला उसे स्वीकार्य होगा। साथ ही संगठन ने मुस्लिमों से फैसले का सम्मान करने की अपील भी की।

जमीयत प्रमुख मौलाना अरशद मदनी ने कहा कि मस्जिद को लेकर मुसलमानों का मामला पूरी तरह से ऐतिहासिक तथ्यों और इस साक्ष्य पर आधारित है कि बाबरी मस्जिद का निर्माण किसी मंदिर या किसी उपासना स्थल को तोड़कर नहीं कराया गया था।

इकबाल अंसारी ने कहा कि वह खुश हैं कि मामला अब अपने तार्किक अंजाम तक पहुंच रहा है।अंसारी के पिता हाशिम अंसारी बाबरी मस्जिद मामले में सबसे पुराने वादी थे।

अयोध्या मामले में आज सुनवाई का अंतिम दिन है। हिंदू पक्ष ने अपनी दलील देते हुए बाबरी मस्जिद की स्थापना के तौर तरीकों पर सवाल खड़े कर दिए। हिंदू पक्ष ने कहा कि इस बात का कोई भी सबूत नहीं है कि मस्जिद खाली जमीन पर बनाई गई। न ही यह साबित हो सका कि इसे बाबर ने बनवाया था।

बाबरी मस्जिद विध्वंस केस में आरोपों में घिरे यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता कल्याण सिंह को लखनऊ कोर्ट से राहत मिली है। अदालत ने कल्याण सिंह को 2 लाख रुपये के मुचलके पर जमानत दे दी है।

मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली न्यायाधीशों की पांच सदस्यीय संविधान पीठ के सवालों का सामना करने के बाद जिलानी ने स्वीकार किया कि भगवान राम का जन्म अयोध्या में हुआ था और राम चबूतरा उनका जन्मस्थान था।

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की एक विशेष अदालत ने उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह को बाबरी मस्जिद ढहाने के मामले में 27 सितंबर को कोर्ट में पेश होने का समन भेजा है।

ट्रायल कोर्ट के न्यायाधीश एस.यादव को 30 सितंबर को सेवानिवृत्त होना था, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने 19 जुलाई को इस मामले में फैसला नौ महीने के अंदर सुनाने का आदेश दिया था। इसलिए न्यायाधीश का कार्यकाल बढ़ा दिया गया।

अयोध्या मामले के लिए लिब्राहन आयोग का गठन 16 दिसंबर 1992 में किया गया था। आयोग ने अपनी रिपोर्ट में बाबरी विध्वंस को सुनियोजित साजिश करार देते हुए 68 लोगों को दोषी माना था।