बिहार

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार लगातार इस काम को करने के प्रयास में है कि उनके राज्य में वापस लौटकर आए श्रमिकों को राज्य से बाहर काम करने के लिए नहीं जाना पड़े।

बिहार में कोरोना संक्रमितों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। तीन मई से प्रवासी मजदूरों के आने का क्रम प्रारंभ होने के साथ ही मरीजों के बढ़ने की रफ्तार भी तेज हो गई है। बिहार में अब कोरोना संक्रमितों की संख्या तीन हजार को पार कर गया है। बिहार में मरीजों की संख्या बढ़ने में तेजी का अंदाज इस बात से लगाया जा सकता है कि यहां 8 दिनों के अंदर संक्रमितों की संख्या में दोगुनी से भी अधिक वृद्धि दर्ज की गई है।

मैंने जिन लोगों को घर भेजा उनमें से एक महिला ने बच्चे को जन्म दिया और उसका नाम मेरे नाम पर रखा है।' सोनू ये भी कहा था कि ये वाकया उनके दिल को छू गया था।

अन्य राज्यों से प्रवासी श्रमिकों का बिहार आने का सिलसिला जारी है। इस बीच श्रमिकों के परेशानियों से जूझने की खबर आती रहती हैं लेकिन गुरुवार को शेखपुरा से एक राहत वाली खबर आई जब श्रमिक एक्सप्रेस से यात्रा कर रही एक गर्भवती महिला ने बच्ची को जन्म दिया।

बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने राजस्थान सरकार पर गंभीर आरोप लगाए हैं। सुशील मोदी ने कहा कि एक करोड़ जमा कराने के बाद ही राजस्थान की कांग्रेस सरकार ने बिहारी छात्रों की ट्रेन खुलने दी

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राज्य के क्वारंटाइन सेंटर में रहने वाले अप्रवासी बिहारी मजदूरों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बात की और क्वारंटाइन सेंटरों में रहने वाले लोगों का हाल जाना।

पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि जानकारी मिलते ही पुलिस समेत कई इलाकों की पुलिस घटनास्थल पर पहुंची और सड़क पर बिखरे बड़े-बड़े लोहे की पाइप को हटाया गया।

प्रवासी मजदूरों के लिए इस समय हर तरफ से आफत ही आफत है। बिहार के पूर्वी चंपारण जिले के पताही क्षेत्र में एक प्रवासी मजदूर की सांप काटने से मौत हो गई।

बिहार में कोरोना संक्रमितों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है। बिहार में कोविड-19 से संक्रमितों की संख्या शनिवार को 1079 तक पहुंच गई। शनिवार को राज्य के 46 लोगों को कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है।

मामले को लेकर विधायक संजय तिवारी का कहना है कि मेरी गाड़ी का इस्तेमाल राशन वितरण के लिए होता है। आज भी यह जगदीशपुर राशन बांटने के लिए गई थी। मैं इस बात से हैरान हूं कि यह सिमरी कैसे पहुंच गई। मेरी अभी उन कर्मचारियों से बात नहीं हुई है जो राशन वितरण के लिए गए थे।