ब्रिटेन

सुनक ने बताया, 'हमारी बाहर खाएं, मदद पहुंचाएं योजना का सबसे पहला मकसद 18 लाख शेफ, वेटर और रेस्त्रां कर्मियों की नौकरियां बचाना है। इस योजना से मांग बढ़ने के साथ-साथ लोग बाहर खाना खाने के लिये भी प्रोत्साहित होंगे।'

उन्होंने कहा, "मेरे स्टाफ कर्मचारियों में से एक ने मुझे थमाते हुए कहा कि एक नोट भी है जिसमें लिखा है कि ये चश्मे महात्मा गांधी के चश्मे हैं। मैंने सोचा यह तो दिलचस्प है।"

ब्रिटिश सिक्के पर महात्मा गांधी की तस्वीर का सबसे पहले विचार अक्टूबर 2019 में पूर्व मंत्री साजिद जाविद ने दिया था।

दुनियाभर में कोरोनावायरस का प्रकोप थमने नहीं ले रहा है। कोविड-19 संक्रमितों की संख्या में पहले की तुलना में अब काफी तेजी से बढ़ोतरी हो रही है। इस बीच ब्रिटेन के तीन यूनिवर्सिटी प्रोफेसर कोरोना की एक दवा खोजकर रातोरात करोड़पति बन गए।

ब्रिटेन की सरकारी एजेंसी पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड की रिपोर्ट में एक खुलासा हुआ है। जिसके मुताबिक अगर आपका वजन ज्यादा है, तो आपको सावधान होने की जरूरत है।

यह भी साफ नहीं हो सका है कि रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को वैक्सीन शोध हैकिंग के बारे में पता है या नहीं, लेकिन ब्रिटिश अधिकारियों का मानना ​​है कि ऐसी खुफिया जानकारी बेशकीमती हो सकती है।

चीन से अमेरिका की नाराजगी जगजाहिर हो चुकी है और इधर ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया जैसे देश भी चीन से खासे नाराज नजर आ रहे हैं।

नए अमेरिकी प्रतिबंधों के बाद ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की अध्यक्षता में राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद (एनएससी) की बैठक में यह निर्णय लिया गया।

पूरी दुनिया में वैश्विक महामारी कोरोनावायरस का प्रकोप लगातार बढ़ता ही जा रहा है। जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के अनुसार वैश्विक स्तर पर कोविड -19 के कुल मामलों की संख्या 13 मिलियन यानि कि 1.3 करोड़ से अधिक हो गई है। वहीं इस वायरस से दुनिया में 5.72 लाख से अधिक हो मौतें हो चुकी हैं।

ब्रिटेन में की गई एक स्टडी में ऐसे संकेत मिले हैं. इससे पहले स्पेन की स्टडी में भी पता चला था कि मरीजों के शरीर में बनी एंटीबॉडीज कुछ हफ्ते में गायब हो सकती हैं।