भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया

इमरती देवी का सिर अपने कंधे से लगाते हुए सिंधिया बोले, 'ज्योतिरादित्य सिंधिया इस महिला के साथ खड़ा है। ज्योतिरादित्य सिंह इस क्षेत्र की हर महिला का रक्षक है। अब ज्योतिरदित्य सिंधिया डबरा का चुनाव लड़ रहा है।'

तस्वीरों में देखा जा सकता है जब दोनों नेता एक दूसरे का अभिवादन स्वीकार रहे थे उस वक्त वहां राज्यसभा में नेता विपक्ष और कांग्रेस सांसद गुलाम नबी आजाद भी मौजूद थे। गुलाम नबी आजाद भी हाथों से कुछ इशारा करते हुए दिखाई दिए।

कोरोनावायरस की चुनौती के कारण दो सत्रों के बीच पहली बार सदन में शपथ दिलाने का निर्णय किया गया। अमूमन सभापति के चेंबर और सत्र के दौरान सदन में शपथ दिलाई जाती है।

उन्होंने आगे कहा राहुल गांधी तेजस्वी व युवाओं को बर्दाश्त नहीं कर पाते। उनकी बेज्जती करते है, इस स्थिति में उनके पास टकराव के अलावा कोई रास्ता नहीं बचता। सचिन पायलट स्वाभिमानी है। उनके परिवार को करीब से जानती हूं। वह राजेश पायलट का बेटा है। जब तक राहुल गांधी के खानदान के लोग कांग्रेस में रहेंगे तब तक यह पालात लोक में चली जाएगी।

उनके वर्तमान चुनाव प्रचार अभियान और 2018 के अभियान के बीच समानताएं हैं, जो कांग्रेस को मध्य प्रदेश में 15 साल बाद सत्ता में ले आई थी। उन्होंने उज्जैन में 'पूजा' करने के साथ अभियान की शुरुआत की थी।

इससे पहले सिंधिया ने बुधवार को ट्वीट कर लिखा, दो दिवसीय दौरे पर कल भोपाल पहुंच रहा हूं। प्रदेश सरकार के मंत्रिमंडल विस्तार कार्यक्रम में उपस्थित होने के बाद, कार्यकर्ताओं से मुलाकात करूंगा।

ज्योतिरादित्य सिंधिया के करीबी लोगों ने बताया कि गले में खराश और बुखार की चपेट में वह और उनकी मां आ गईं। जिसके बाद सोमवार को ही साकेत स्थित अस्पताल में डॉक्टरों के कहने पर ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनकी मां भर्ती हो गईं।

ऐसा पहली बार नहीं है कि सिंधिया का Twitter प्रोफाइल चर्चा में आया हो। बताया जाता है कि सिंधिया जब कांग्रेस का साथ छोड़कर भाजपा का दामन थामने वाले थे, तब भी ऐसी की चर्चा थी कि उन्होंने अपनी प्रोफाइल से कांग्रेस शब्द हटा लिया है।