भारतीय रेलवे

रेलवे ने बताया है कि इन 44 सेमी हाईस्पीड ट्रेन सेट का टेंडर 10 जुलाई को खोला जाएगा। रेलवे ने यह भी साफ किया है कि इस टेंडर की तारीख को आगे नहीं बढ़ाया जाएगा।

भारतीय रेलवे ने ट्वीट कर जानकारी देते हुए कहा कि ऊर्जा संरक्षण की दिशा में भारतीय रेल हमेशा प्रयासरत रही है।

पिछले साल नवंबर में इस परियोजना की नींव रखी गई थी। रेलवे अधिकारियों के मुताबिक कुल 3 गीगावाट की क्षमता वाला सोलर पावर प्लांट लगाने की योजना है।

सिर्फ 5 फीसदी अतिरिक्त ट्रेनों का ही परिचालन प्राइवेट ऑपरेटर्स को दिया जा रहा है। बाकी 95 ट्रेनों का परिचालन रेलवे करेगा।

भारतीय रेलवे देश ने एक सफलता हासिल की है। कोरोना वायरस और लॉकडाउन के बीच फंसे हुए मजदूरों और नागरिकों के लिए सबसे पहले रेलवे ने ही सेवा शुरू की। इस बीच भारतीय रेल ने इतिहास रच दिया।

रेल मंत्रालय ने बताया कि पुराने टाइम टेबल के अनुसार चलने वाली नियमित गाड़ियों को कोविड की वजह से वर्तमान स्थिति में चलाना संभव नहीं है। इसलिए इन नियमित गाड़ियों में 14 अप्रैल से पहले बुक सभी टिकटों को कैंसिल कर टिकटों की राशि रिफंड की जा रही है।

देश में लगातार बढ़ते कोरोनावायरस के मामलों के चलते 12 अगस्त तक सभी सामान्य रेल सेवाओं को बंद कर दिया गया है। भारतीय रेलवे बोर्ड की ओर से गुरुवार को एक आदेश जारी कर इसकी जानकारी दी गई।

भारतीय रेलवे ने 31 सितंबर, 2020 तक अगले 125 दिनों में 1800 करोड़ रुपये की लागत के प्रवासियों और अन्य लोगों के लिए रोजगार के अवसर के 8 लाख श्रमिकों को रोजगार के अवसर मिलेंगे।

फुल रिफंड को लेकर जारी किए गए आदेश में IRCTC के अनुसार, भारतीय रेलवे द्वारा सिस्टम में ट्रेन को रद्द करने के बाद ऑटोमेटिक फुल रिफंड शुरू की जाएगी।

कोरोना वायरस महामारी से देश वैसे ही नुकसान झेल रहा है। इसी बीच रेलवे भी बेरोजगारों के लिए भी बुरी खबर लेकर आया है। भारतीय रेलवे ने फिलहाल सभी तरह के नई नौकरियों में भर्ती पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाने का फैसला किया है।