मकान

प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना (पीएमएवाई-जी) के तहत अब तक 88 लाख से ज्यादा मकानों का निर्माण कार्य पूरा हो चुका है। यह जानकारी केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने मंगलवार को लोकसभा में एक सवाल के लिखित जवाब में दी।

मान लीजिए, आपका होम लोन सैंक्शन हो गया है और आप अपना नया घर खरीदने से कुछ ही कदम दूर हैं। अब जबकि आप मुख्य बाधा को पार कर चुके हैं

आप अगर होम और पर्सनल लोन (Home, Personal Loan) लेने की तैयारी में है तो ये खबर आपके लिए बेहद महत्वपूर्ण है क्योंकि अब लोन लेना और आसान हो गया है। आपको अब 1 घंटे से भी कम समय में आसानी से लोन मिल जाएगा।

सभी ऑनलाइन आवेदन डीडीए के पोर्टल डब्ल्यू डब्ल्यू डब्ल्यू डॉट डीडीए डॉट ओआरजी डॉट इन [www.dda.org.in] पर किए जाएंगे। आवेदन निजी स्तर पर भी किए जा सकेंगे और विभिन्न स्थानों पर संचालित डीडीए के नागरिक सेवा केंद्रों की सहायता से भी जमा कराए जा सकेंगे।

सीढ़ियों के नीचे किसी भी तरह का निर्माण जैसे पूजाघर, मूत्रालय आदि का निर्माण नहीं करना चाहिए। सीढ़ियों के नीचे रसोई घर, पूजा घर, स्नान घर आदि न बनवाएं। हां, वहां स्टोर रूम बनाया जा सकता है।

ज्यादातर लोगों के पास देश में अपना घर नहीं होने से लोग किराए पर रहते है। नौकरी में बदलाव या कनेक्टिविटी भी एक ऐसा मुद्दा है जिससे लोग बड़े पैमाने पर किराए के घर पर रहने को मजबूर होते है।

प्राइम लोकेशन पर आयोजित इस प्रॉपर्टी एक्सपो में जयपुर के नामी बिल्डर्स के अफोर्डेबल होम्स, प्लॉट्स, विला, स्टूडियो अपार्टमेंट, फ्लैट, टाउनशिप, मकान, कामर्शियल यूनिट, रेडी टू शिफ्ट प्रोजेक्ट्स उपलब्ध हैं।

जीएसटी परिषद ने 24 फरवरी की पिछली बैठक में किफायती दर के निर्माणाधीन मकानों पर जीएसटी दर को घटा कर एक फीसदी कर दिया था।

40 लाख रुपये तक कीमत वाले मकानों के आकार में सबसे ज्यादा गिरावट दर्ज हुई है। हालांकि दूसरे शहरों में भी बिल्डर तेजी से मकानों का आकार घटा रहे हैं, लेकिन एनसीआर में छोटे घरों की डिमांड और युवाओं की खरीद क्षमता में इजाफे को इसका बड़ा कारण माना जा रहा है।

पेयजल की बर्बादी रोकने के लिए दिल्ली सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। नया मकान बनाने वालों को अब पानी के लिए दो पाइपलाइन बिछानी होगी। एक पाइपलाइन पेयजल के लिए होगी, जबकि दूसरी अन्य घरेलू कार्यों के लिए।