मनीष तिवारी

पीएम मोदी को लिखी चिट्ठी अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से ट्वीट करते हुए मनीष तिवारी ने लिखा, शहीद-ए-आजम भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को भारत रत्न से सम्मानित करने की मांग के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मेरी चिट्ठी।

इंदिरा गांधी ने प्रधानमंत्री रहते हुए वीर सावरकर की लिखित में प्रशंसा की थी। अब इंदिरा गांधी के इस पत्र के सामने आने के बाद कांग्रेस इस मामले पर भी बैकफुट पर आती नजर आ रही है।

पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कश्मीर से धारा 370 हटाने जैसे फैसले के साहस की बात करते हुए वीर सावरकर को याद किया। पीएम मोदी ने कहा, 'ये वीर सावरकर के ही संस्कार हैं जो राष्ट्रवाद को हमने राष्ट्र निर्माण के मूल में रखा है।'

दरअसल चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने मंगलवार को मीडिया ब्रीफिंग में कहा था कि कश्मीर मुद्दे को द्विपक्षीय बातचीत से सुलझाया जाना चाहिए। बाद में चीन अपने बयान से पलट गया, उसकी तरफ से कहा गया कि कश्मीर मामले को संयुक्त राष्ट्र चार्टर के तहत सुलझाना चाहिए।

कांग्रेस ने आज लोकसभा में 370 पर चर्चा के दौरान एक भारी भूल कर दी। कांग्रेस के नेता मनीष तिवारी ने हैदराबाद और जूनागढ़ रियासत को भारत में विलय करने का श्रेय नेहरू को दे दिया।

मनीष तिवारी ने कहा, "क्या वह (प्रधानमंत्री) 3.10 बजे से 5.30 बजे के बीच हमले से अंजान थे? या तो उनके कार्यालय द्वारा उन्हें सूचित नहीं किया गया था या उनसे संपर्क असंभव था। इसे सत्ता के शीर्ष पर संवाद की हालत का अंदाजा लगाया जा सकता है।"