मसूद अजहर

पाकिस्तान के आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने कश्मीर में अस्थिरता और आतंकवाद फैलाने के लिए बड़े पैमाने पर तैयारियां शुरू कर दी हैं। जैश और लश्कर इन सर्दियों में भारत में बड़े आतंकी हमले की तैयारी कर रहे हैं। जैश ने बहावलपुर के अपने हेडक्वार्टर में इस मकसद से आतंकियों की एक बैठक बुलाई है। भारतीय खुफिया सूत्रों ने जैश की पूरी साजिश बेनकाब कर दी है।

खुफिया सूत्रों के मुताबिक मसूद अजहर की दोनों ही किडनी बेकार हो चुकी है। वह अब अपने संगठन को भी संबोधित नहीं कर पा रहा है। बहावलपुर में उसके ठिकाने पर ही आईएसआई ने एक मिनी नर्सिंग होम बना बनवा रखा है।

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में इसी साल 14 फरवरी को हुए आत्मघाती हमले हमले के बाद ऐसी अघोषित खबरें आईं थीं कि पाकिस्तानी एजेंसियों ने अजहर को हिरासत में लिया था।

मोदी सरकार ने गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम संशोधन कानून (यूएपीए) के तहत मौलाना मसूद अजहर, दाऊद इब्राहिम, जाकिर-उर-रहमान लखवी और हाफिज सईद को आतंकवादी घोषित किया है।

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हो रही फजीहत से बौखलाया पाकिस्तान आतंकवाद के सहारे बदला लेने की तैयारी में है। खुफिया एजेंसियों ने कुछ ऐसे कोडवर्ड पकड़े हैं जो पाकिस्तान की इस खतरनाक साजिश का खुलासा करते हैं।

चीन ने पाकिस्तान के साथ मिलकर कश्मीर में आतंकवाद भड़काने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। चीन पाकिस्तान में पल रहे मसूद अजहर जैसे आतंक के सरगनाओं की लंबे समय तक मदद करता आया है। मगर अब चीन को कश्मीर के पाप झेलने पड़ रहे हैं। चीन के कब्जे का हांगकांग अब उसके गले की हड्डी बन गया है।

पाकिस्तान में पल रहा जैश-ए-मोहम्मद का चीफ मसूद अजहर 15 अगस्त के मौके पर बड़े धमाके की साजिश रच रहा है। उसके निशाने पर दिल्ली और मुंबई हो सकते हैं।

दाऊद इब्राहीम साल 1993 के मुंबई धमाकों का मास्टर माइंड है। इसी तरह हाफिज सईद 2008 के मुंबई हमले और मसूद अजहर साल 2001 के संसद हमले का कुख्यात अपराधी है। इन सभी पर पाकिस्तान का हाथ है।

अमेरिका के स्थाई प्रतिनिधि जोनाथन कोहेन ने सोमवार को परिषद को बताया, "अजहर को इस सूची में शामिल किया जाना दिखाता है कि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय आतंकवादियों को उनके कृत्यों के लिए जवाबदेह ठहरा सकता है और ठहराएगा।"

कपिल सिब्बल ने कहा कि 26/11 के बाद 11 दिसंबर 2008 को जमात-उद-दावा प्रमुख हाफिज सईद को कुछ अन्य लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) कमांडरों जैसे जकी-उर रहमान लखवी व मोहम्मद अशरफ के साथ आतंकवादी घोषित किया गया था।