महाराष्ट्र सरकार

कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए महाराष्ट्र सरकार ने राज्य में कर्फ्यू की घोषणा कर दी है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने इसकी घोषणा की है। सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा कि राज्य की सीमाएं सील कर दी गई है।

उद्धव ठाकरे ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से अपील की, "मैं महाराष्ट्र सरकार की तरफ से विनती करता हूं कि अयोध्या में महाराष्ट्र भवन के निर्माण के लिए हमें यहां जमीन का एक टुकड़ा प्रदान करें, ताकि मराठी लोग जब यहां आएं तो उन्हें रहने की परेशानी न हो।"

यह आदेश महाराष्ट्र सरकार के उच्च एवं तकनीकी शिक्षा मंत्रालय द्वारा जारी किया गया है। बता दें कि राष्ट्रगान के दौरान कॉलेज के छात्र और शिक्षक शामिल होंगे।

22 जनवरी को महाराष्ट्र राज्य के मंत्रिमंडल द्वारा 'मुंबई 24 घंटे' की नीति को मंजूरी दे दी गई है, जिसके तहत गैर-आवासीय क्षेत्रों में स्थित मॉल और मिल परिसरों में 24 घंटे दुकानें और भोजनालय खुली रहेंगी।

शिरडी के साईं बाबा के जन्मस्थान को लेकर महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार के एक ऐलान की वजह से विवाद खड़ा हो गया है। दरअसल महाराष्ट्र सरकार ने परभणी के समीप स्थित पाथरी गांव को साई की जन्मस्थली बताया है। जिसे लेकर शिरडी के लोगों में काफी गुस्सा है।

संजय के इस बयान पर अब कांग्रेस की प्रतिक्रिया का इंतजार किया जा रहा है। बता दें कि महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी गठबंधन की सरकार है।

वरिष्ठ नेताओं ने पार्टी नेतृत्व को अपनी शिकायतों से अवगत कराया। एक सूत्र ने बताया कि विधानसभा चुनाव में चौथे स्थान पर रही कांग्रेस अब पार्टी में वरिष्ठ नेताओं को समायोजित करने की योजना बना रही है और कई को संगठनात्मक कार्य सौंपा जा सकता है।

पीडब्ल्यूपी की अध्यक्ष जयंत पाटिल भी नाराज हैं और उनकी पार्टी के एक विधायक हैं। ऐसे ही बहुजन विकास आघाड़ी के अध्यक्ष हितेंद्र ठाकुर भी कैबिनेट में जगह न मिलने से खफा हैं।

बता दें कि सोमवार को ठाकरे सरकार में मंत्रिमंडल का विस्तार किया गया जिसमें शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस से 36 नए विधायकों ने भी मंत्री पद की शपथ ली।

शिवसेना के हिस्से में शहरी विकास और पर्यावरण मंत्रालय, कांग्रेस को उच्च और तकनीकी शिक्षा, स्कूल और चिकित्सा शिक्षा, महिला बाल विकास विभाग मिला है। गठबंधन की इस सरकार में अहम पार्टी एनसीपी को ग्रामीण विकास भी मिला है।