महाराष्ट्र सरकार

शिरडी के साईं बाबा के जन्मस्थान को लेकर महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार के एक ऐलान की वजह से विवाद खड़ा हो गया है। दरअसल महाराष्ट्र सरकार ने परभणी के समीप स्थित पाथरी गांव को साई की जन्मस्थली बताया है। जिसे लेकर शिरडी के लोगों में काफी गुस्सा है।

संजय के इस बयान पर अब कांग्रेस की प्रतिक्रिया का इंतजार किया जा रहा है। बता दें कि महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी गठबंधन की सरकार है।

वरिष्ठ नेताओं ने पार्टी नेतृत्व को अपनी शिकायतों से अवगत कराया। एक सूत्र ने बताया कि विधानसभा चुनाव में चौथे स्थान पर रही कांग्रेस अब पार्टी में वरिष्ठ नेताओं को समायोजित करने की योजना बना रही है और कई को संगठनात्मक कार्य सौंपा जा सकता है।

पीडब्ल्यूपी की अध्यक्ष जयंत पाटिल भी नाराज हैं और उनकी पार्टी के एक विधायक हैं। ऐसे ही बहुजन विकास आघाड़ी के अध्यक्ष हितेंद्र ठाकुर भी कैबिनेट में जगह न मिलने से खफा हैं।

बता दें कि सोमवार को ठाकरे सरकार में मंत्रिमंडल का विस्तार किया गया जिसमें शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस से 36 नए विधायकों ने भी मंत्री पद की शपथ ली।

शिवसेना के हिस्से में शहरी विकास और पर्यावरण मंत्रालय, कांग्रेस को उच्च और तकनीकी शिक्षा, स्कूल और चिकित्सा शिक्षा, महिला बाल विकास विभाग मिला है। गठबंधन की इस सरकार में अहम पार्टी एनसीपी को ग्रामीण विकास भी मिला है।

रविवार को दादर स्थित मुंबई बीजेपी कार्यालय में कोर कमेटी की बैठक हुई। जिसमें प्रदेशाध्यक्ष चंद्रकांत पाटील, राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री वी. सतीश, मुंबई बीजेपी अध्यक्ष मंगलप्रभात लोढ़ा आदि ने भाग लिया।

फडणवीस ने आगे कहा कि अजित पवार ने हमसे संपर्क किया और कहा कि राकांपा(एनसीपी) कांग्रेस के साथ नहीं जाना चाहती। तीन पार्टियों की सरकार को नहीं चलाया जा सकता।

महाराष्ट्र में शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस गठबंधन के महाविकास अघाड़ी को बीजेपी ने जबरदस्त चोट दी है। उद्धव सरकार बनने के महज एक हफ्ते के अंदर ही ठाणे जिले की भिवंडी महानगर पालिका के मेयर चुनाव में बीजेपी गठबंधन ने चुनाव जीत लिया।

संजय राउत बोले कि शिवसेना पहले से ही ये बात कहती आ रही है कि घुसपैठियों को बाहर निकालना चाहिए, पाकिस्तान-बांग्लादेश-अफगानिस्तान से जो हिंदू-सिख-बौद्ध-जैन आ रहे हैं उनके मसले पर वह केंद्र सरकार के साथ है।