महाराष्ट्र

शिवसेना नेता संजय राउत ने शनिवार को कहा कि वीर सावरकर न केवल महाराष्ट्र बल्कि देश के भी देवता हैं।

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के अध्यक्ष शरद पवार को उम्र के 80वें साल में प्रवेश करने पर गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शुभकामनाएं दी। पीएम मोदी ने ट्वीट किया, "शरद पवार जी को जन्मदिन की शुभकामनाएं। उनकी लंबी उम्र व स्वास्थ्य के लिए प्रार्थना करता हूं।"

अजित पवार ने हालांकि फडणवीस के साथ मुलाकात के संबंध में सोमवार को बारामती में कहा कि राजनीति में कोई भी स्थायी दुश्मन नहीं होता। पवार ने एक मुस्कान के साथ कहा, "उन्हें आमंत्रित किया गया था।

महाराष्ट्र में एनसीपी, कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार चला रही शिवसेना ने विवादास्पद नागरिकता संशोधन विधेयक (सीएबी) का समर्थन करने का फैसला किया है। जबकि कांग्रेस ने पहले ही इस विधेयक को 'असंवैधानिक' करार दिया है।

रविवार को दादर स्थित मुंबई बीजेपी कार्यालय में कोर कमेटी की बैठक हुई। जिसमें प्रदेशाध्यक्ष चंद्रकांत पाटील, राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री वी. सतीश, मुंबई बीजेपी अध्यक्ष मंगलप्रभात लोढ़ा आदि ने भाग लिया।

27 नवंबर को बॉम्बे हाईकोर्ट में जमा किए गए शपथपत्र के मुताबिक विदर्भ सिंचाई विकास निगम (वीआईडीसी) के चेयरमैन अजित पवार को कार्यकारी एजेंसियों के कार्यों के लिए जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है, क्योंकि पवार के पास कोई वैधानिक दायित्व नहीं है।

महाराष्ट्र में शिवसेना को बड़ा झटका लगा है। मुंबई के धारावी में करीब 400 शिवसैनिकों ने पार्टी छोड़ दी है। सभी ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सदस्यता ग्रहण की है। भाजपा में शामिल होने वाले एक कार्यकर्ता रमेश नदेशन ने कहा कि शिवसेना ने भ्रष्ट और हिंदू विरोधी दलों के साथ हाथ मिला लिया है। इससे हम नाराज हैं।

कर्नाटक से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद अनंत कुमार हेगड़े ने चौंकाने वाला बयान दिया है, जिसमें उन्होंने कहा है कि देवेंद्र फडणवीस को महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री केंद्र के 40 हजार करोड़ रुपये का दुरुपयोग होने से रोकने के लिए बनाया गया था।

इस पोस्‍ट पर आवेदन करने के लिए उम्मीदवार की न्यूनतम आयु 18 वर्ष और अधिकतम आयु 40 वर्ष है। वहीं, फॉर्म भरने के लिए उम्‍मीदवारों को कुल 100 रुपये का शुल्‍क जमा करना होगा। आवेदन करने वाले उम्‍मीदवार को 10वीं पास होना अनिवार्य है।

महाराष्ट्र की पिछली देवेंद्र फडणवीस सरकार में मंत्री रह चुकीं पंकजा ने पिता गोपीनाथ मुंडे की जयंती 12 दिसंबर को समर्थकों की एक बैठक बुलाई है, जिसमें वह कोई बड़ा फैसला ले सकती हैं। समर्थकों का आरोप है कि ओबीसी वर्ग और पार्टी में नेतृत्व खत्म करने के लिए भाजपा के कुछ नेताओं ने ही पंकजा को चुनाव में हराया।