महाराष्ट्र

हेगड़े ने कहा, 'सीएम के पास करीब 40 हजार करोड़ की केंद्र की राशि थी। अगर कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना सत्ता में आते तो वे 40 हजार करोड़ का दुरुपयोग करते। यही कारण है कि केंद्र सरकार के इस पैसे को विकास के लिए इस्तेमाल में नहीं लाया जा सके, इसके लिए ड्रामा किया गया।'

महाराष्ट्र में सत्ता को लेकर बढ़ी तल्खी के बाद आज मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने पूर्व सीएम और भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस की जमकर तारीफ की। उद्धव ठाकरे ने सदन में बोलते हुए कहा, 'मैंने देवेंद्र फडणवीस से बहुत चीजें सीखी हैं और मैं हमेशा उनका दोस्त रखूंगा। मैं अभी भी 'हिंदुत्व' की विचारधारा के साथ हूं और इसे कभी नहीं छोड़ूंगा।' उन्होंने कहा कि पिछले 5 साल में मैंने कभी भी सरकार को धोखा नहीं दिया है।

इधर अजित पवार से मिले बीजेपी प्रतिनिधि, उधर कांग्रेसमय हुआ सामना, महाराष्ट्र में "कुछ" तो पक रहा है!

उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में बनी महाविकास अघाड़ी सरकार ने महाराष्ट्र विधानसभा में बहुमत हासिल कर लिया है। विधानसभा की कार्यवाही के दौरान भाजपा के सदस्यों ने सदन का बहिष्कार किया। जिसके बाद सदस्यों की गिनती कर बहुमत परीक्षण की प्रक्रिया पूरी की गई। सभी सदस्यों ने अपनी सीट पर उठकर नाम और क्रमांक बताया।

अजित पवार अपनी गतिविधियों से राजनीतिक पंडितों को हैरान कर रहे हैं। इस मुलाकात को लेकर प्रदेश के सियासी गलियारों में अटकलबाजियों का दौर एक बार फिर से शुरू हो गया है। हालांकि सफाई देते हुए अजित पवार ने इसे शिष्‍टाचार भेंट बताया।

महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में बनी सरकार की मुश्किलें हर गुजरते दिन के साथ बढ़ रही है। शनिवार को बहुमत साबित करने से पहले डिप्टी सीएम और स्पीकर के पद को लेकर कांग्रेस-एनसीपी में रस्साकशी शुरू हो गई है।

महाराष्ट्र के धुले जिले में एक दर्दनाक सड़क हादसे में 7 लोगों की मौत हो गई है, जबकि 24 लोग घायल हो गए। यह हादसा तब हुआ जब शिरूर तालुका में विन्चर गांव के पास एक पिकअप वैन बोरी नदी में गिर गई।

इस बीच महाराष्ट्र सरकार का राजस्व घाटा बढ़कर 20,292.94 करोड़ रुपये रहने का अनुमान है। एक साल पहले राजस्व घाटा 14,960.04 करोड़ रुपये था। इस लिहाज से सिर्फ एक साल में महाराष्‍ट्र का राजस्‍व घाटा 5 हजार करोड़ यानी 35.6 फीसदी से अधिक बढ़ सकता है ।

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता देवेंद्र फडणवीस को नागपुर कोर्ट ने समन जारी किया है। देवेंद्र फडणवीस पर चुनावी हलफनामे में जानकारी छिपाने का आरोप है। वकील सतीश उके का आरोप है कि फडणवीस ने अपने हलफनामे में दो आपराधिक मुकदमों की जानकारी को छिपाई।

बता दें कि महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव के दौरान फडणवीस ने दावा किया था कि राज्य में विरोधी पक्ष नहीं रहेगा। वहीं, विधानसभा चुनाव के बाद राज्य में शिवसेना के नेतृत्व में सरकार बन गई है और पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस अब विरोधी दल के नेता चुने गए हैं।