Sat, 14 Dec, 2019

मायावती

इस मेगापोल में लोगों से सवाल किया गया कि 'आज की तारीख में चुनाव हो जाएं तो आप पीएम किसे चुनेंगे?' इस रेस में पीएम मोदी, राहुल गांधी, मायावती और ममता बनर्जी जैसे बड़े चेहरे शामिल थे।

मायावती ने सरकारी खर्चे पर सवाल उठाते हुए कहा कि अब चुनाव के समय चौकीदार सरकारी खर्चे पर देश भर में घूम-घूम कर सफाई दे रहे हैं कि वह बेईमान नहीं हैं, बल्कि ईमानदार हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने 2009 में दायर रविकांत और अन्य लोगों द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि मायावती को मूर्तियों पर खर्च सभी पैसों को सरकारी खजाने में जमा कराना चाहिए।

उत्तर प्रदेश की 4 बार मुख्यमंत्री रहीं और बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती हमेशा सोशल मीडिया से दूर रहीं लेकिन 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले उन्होंने भी सोशल मीडिया पर एंट्री कर ली है।

अखिलेश यादव पर अवैध खनन और रिवर फ्रंट घोटाले पर शिकंजा कसने के बाद अब ईडी ने मायावती को घेरे में लेना शुरू कर दिया है। नई जानकारी के मुताबिक, मायावती सरकार के कार्यकाल में कथित 14 अरब के स्मारक घोटाले में ईडी ने बीएसपी चीफ के करीबियों पर कार्रवाई शुरू कर दी है।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने गरीबों को न्यूनतम आमदनी की गारंटी देने का वायदा किया है, लेकिन बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने इस पर सवाल खड़े कर दिए हैं। मायावती ने कहा है कि कहीं यह भी पूर्व की कांग्रेस सरकार के 'गरीबी हटाओ' और मौजूदा सरकार के काले धन, 15 लाख और अच्छे दिन की तरह नकली वादा तो नहीं?

बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती पर अमर्यादित टिप्पणी करने के बाद बीजेपी की महिला विधायक साधना सिंह ने माफी मांग ली है।

विवादित बयान देने वालों की सूची में भाजपा के एक और नेता विधायक साधना सिंह का नाम जुड़ गया है। चंदौली में विधायक ने एक ऐसा बयान दे डाला है जो भाजपा के लिए परेशानी का कारण बन सकता है।

नई दिल्ली। बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने अपने भतीजे को विरासत सौंपने को लेकर आ रही खबरों पर गहरी नाराजगी जताई...

नई दिल्ली। पिछले कुछ समय से मायावती के साथ तस्वीर में एक युवक पर पूरी मीडिया की नजर है। राजनीतिक...