मासिक धर्म

। सैनिटरी पैड ज्यादातर प्लास्टिक के बने होते हैं और इनमें सेल्यूलोज गम के साथ-साथ शोषक तत्व भी होते हैं, जो किसी तरल पदार्थ को जेल में बदल देते हैं। इस तरह की चीजों से तैयार होने वाले सैनिटरी नैपकिन पर्यावरण के लिए बेहद हानिकारक होते हैं, क्योंकि इनमें उचित निपटान प्रणालियों की पर्याप्त कमी होती है।

जो महिलाएं अधिक संभोग करती हैं, उनमें रजोनिवृत्ति होने की संभावना कम होती है। हफ्ते में एक बार संभोग (सेक्स) करने वाली महिलाओं में रजोनिवृत्ति (मीनोपॉज) की संभावना महीने में एक बार संभोग करने वाली औरतों से 28 फीसदी कम होती है।

टाइप-2 मधुमेह दुनिया भर में सबसे आम बीमारियों में एक बन गया है। 2015 में इससे वैश्विक रूप से 20 से 79 की आयु के 8.8 फीसदी लोग प्रभावित थे और 2040 तक इससे 10.4 फीसदी लोगों के प्रभावित होने की संभावना है।

गेहूं के दाने के बराबर चूना गन्ने के रस में मिलाकर पिलाने से बहुत जल्दी पीलिया ठीक कर देता है। और यही चूना नपुंसकता की भी सबसे अच्छी दवा है, अगर किसी के शुक्राणु नहीं बनता, उसको अगर गन्ने के रस के साथ चूना पिलाया जाये, तो साल डेढ़ साल में भरपूर शुक्राणु बनने लगेंगे।

आज भी कई जगहों में इसको लेकर कई भ्रांतियां है जिसे महिलाओं में दूर करना उनके स्वास्थय के लिए बेहद जरूरी है। यह भी आपको बता दें कि पीरियड्स 28 दिनों के अंदर आता है और इसलिए ये 28 मई को मनाई जाती है।

फिल्म 'पैडमैन' के साथ मासिक धर्म स्वच्छता पर खुली बातचीत शुरू करने वाले अभिनेता अक्षय कुमार का कहना है कि उन्हें यह देखकर गर्व महसूस होता है कि कैसे एक विषय पर शुरू हुई बातचत जमीनी स्तर के आंदोलन में परिवर्तित हो गई है।

फिल्म 'पैडमैन' के साथ मासिक धर्म स्वच्छता पर खुली बातचीत शुरू करने वाले अभिनेता अक्षय कुमार का कहना है कि उन्हें यह देखकर गर्व महसूस होता है कि कैसे एक विषय पर शुरू हुई बातचत जमीनी स्तर के आंदोलन में परिवर्तित हो गई है।

मासिक धर्म के कलंक के बारे में बनाई गई भारतीय पृष्ठभूमि की फिल्म 'पीरियड, इंड ऑफ सेंटेंस' को ऑस्कर के लिए नामित किया गया है। इस फिल्म में वास्तविक पैडमैन ने काम किया है। मंगलवार को की गई घोषणा के मुताबिक, यह फिल्म डॉक्यूमेंटरी शॉर्ट सबजेक्ट श्रेणी के शीर्ष पांच नामित फिल्मों में शामिल है। अन्य नामित फिल्मों में 'ब्लैक शीप', 'एंड गेम', 'लाइफबोट' और 'अ नाइट एट द गार्डन' शामिल हैं।