मुलायम सिंह

सीबीआई ने शीर्ष अदालत को बताया कि समाजवादी पार्टी (सपा) के पूर्व अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव, उनके बेटों- पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव और प्रतीक यादव, पुत्रवधु और सांसद डिंपल यादव के खिलाफ कथित आय से अधिक संपत्ति की जांच, कोई सबूत नहीं मिलने के बाद 2013 में बंद हो चुकी थी।

कहा गया है कि राजनीति में न कोई किसी का दोस्त होता है, और न दुश्मन। यह बात यहां शुक्रवार को एक बार फिर चरितार्थ हुई है, जब सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव और बसपा प्रमुख मायावती ने एक साथ मंच साझा किया।

24 साल बाद मंच पर आज साथ नजर आए माया-मुलायम

24 साल बाद आज सपा संरक्षक मुलायम सिंह और बसपा सुप्रीमो मायावती ने मंच साझा किया। मैनपुरी में आज मायावती, मुलायम सिंह यादव के लिए प्रचार करने पहुंची। इस रैली में अखिलेश यादव भी शामिल हुए।

समाजवादी पार्टी (सपा) के संरक्षक मुलायम सिंह यादव लोकसभा चुनावों के लिए आज सोमवार को मैनपुरी में अपना नामांकन करेंगे। इस दौरान उनके साथ पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, सांसद धर्मेंद्र यादव, सांसद तेजप्रताप यादव व राज्यसभा सांसद रामगोपाल यादव के अलावा प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम मौजूद रहेंगे।

40 प्रचारकों की सूची में भी मुलायम सिंह का नाम नहीं होने के बाद सियासी गलियारों में अलग-अलग तरह की चर्चाएं हैं। राजनीति के जानकार तो अब यह तक कहने लगे हैं कि मुलायम सिंह यादव को लेकर पार्टी का भरोसा कमजोर हुआ है।

नई दिल्ली। लखनऊ के रमाबाई आंबेडकर मैदान में जनाक्रोश रैली कर रहे हैं शिवपाल सिंह यादव। जिनके मंच पर प्रदेश...

नई दिल्ली। समाजवादी सेकुलर मोर्चा के संयोजक शिवपाल यादव का कहना है कि लोकसभा चुनाव के लिए मोर्चा मुलायम सिंह...