मोदी सरकार

कोरोनावायरस महामारी से लड़ने के लिए नरेंद्र मोदी सरकार ने तीन चरणों वाली रणनीति बनाई है।

गौरतलब है कि कोरोनावायरस के मामलों में पिछले दो से तीन दिनों में काफी तेजी आई है। देश में कोरोना पीड़ित लोंगो की संख्या 5 ,194 हो गया है, जबकि 149 लोगों की मौत हो गयी है।

लॉकडाउन को लेकर लगाई जा रही कयासबाजी पर स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा है कि लॉकडाउन बढ़ाने को लेकर सोशल मीडिया में चल रही चर्चा पर कयासबाजी न करें।

सोनिया गांधी ने इस पत्र में लिखा है- ' यह एक सराहनीय कदम है। इस पैसे का उपयोग कोविड -19 के खिलाफ लड़ाई के लिए बहुत आवश्यक है। यह समय की आवश्यकता है।

एवेन्यू सुपरमार्ट्स के प्रमोटर राधाकिशन दमानी ने कोरोनोवायरस महामारी के खिलाफ लड़ाई के लिए पीएम-केयर्स फंड में 100 करोड़ रुपये का योगदान दिया है।

लॉकडाउन के दौरान उपभोक्ताओं को घर पर ही सुविधा देने के उद्देश्य से इंडियन बैंक ने एक नई पहल की है।

केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने सभी राज्यों के मुख्य सचिवों को पत्र लिखकर लॉकडाउन का उल्लंघन करने वालों पर सख्त कार्रवाई करने के लिए कहा है।पत्र में कहा गया है कि लॉकडाउन उपायों के उल्लंघन पर अधिकारियों द्वारा डीएम अधिनियम और आईपीसी के प्रावधानों के तहत आरोपियों पर कार्रवाई की जानी चाहिए।

इसके 2 तरीके निकाले गए हैं। सरकारी बैंक सभी को  यह राहत मुहैया करा रहे हैं जबकि प्राइवेट बैंकों में यह सुविधा ग्राहकों की मांग पर दी गई है। प्राइवेट बैंक से लोन लेने वालों को बैंक को ईमेल कर बताना होगा कि वे इस सुविधा का लाभ लेना चाहते हैं।

भारत के सबसे बड़े उद्योगपति मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्री ने कोरोना संकट के बीच PM-CARES में 500 करोड़ रुपए दान किये हैं।

सरकारी आंकड़े के अनुसार, देश में अब तक इस बीमारी के 1,071 मरीज हैं जबकि 29 लोगों की मौत हुई है। हेल्थ मिनिस्टरी के जारी आंकड़ों के अनुसार, मरीजों की कुल संख्या में 49 विदेशी भी शामिल हैं। सबसे ज्यादा कोरोनावायरस के संक्रमण के मामले केरल में सामने आए हैं जहां 194 मामले की पुष्टि हो चुकी है जिनमें एक की मौत हो चुकी है।