मोदी सरकार

अभिव्यक्ति की आजादी को लेकर वैसे तो कांग्रेस हमेशा मोदी सरकार पर निशाना साधती रही है लेकिन जब उसके खुद के नेता इस आजादी का फायदा उठाकर जनता द्वारा चुने गए प्रधानमंत्री के लिए अपशब्दों का प्रयोग करते हैं तो कांग्रेस आलाकमान चुप्पी साध लेती है।

उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने बुधवार को कांग्रेस और केंद्र की भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार पर निशाना साधा और कहा कि मोदी सरकार भी कांग्रेस के रास्ते पर ही चल रही है।

दिल्ली के शाहीन बाग-कालिंदी कुंज में सड़क को जाम करने के मामले में आज दिल्ली हाईकोर्ट सुनवाई हुई। हाईकोर्ट ने गेंद केंद्र सरकार और दिल्ली पुलिस के पाले में डाल दी है। जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए  हाईकोर्ट ने इस पूरे मामले को पुलिस पर छोड़ दिया है।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने खुदरा मुद्रास्फीति की दर के 7.35 फीसदी तक पहुंच जाने को लेकर मंगलवार को एक बार फिर मोदी सरकार पर हमला बोला। साथ ही प्रियंका गांधी ने आरोप लगाया कि केंद्र की मोदी सरकार ने गरीब की जेब काटकर उसके पेट पर लात मारने का काम किया है।

भारत में परमाणु बिजली कोयला, गैस, जलविद्युत और पवन ऊर्जा के बाद बिजली का पांचवा बड़ा स्रोत है। पिछले साल तक भारत में कुल सात परमाणु बिजली संयंत्रों में 22 परमाणु रिएक्टर स्थापित हो चुके थे।

जेएनयू में हुई हिंसा को लेकर छात्रों का प्रदर्शन अभी जारी है। छात्रों की ये भी मांग है कि वीसी एम. जगदीश कुमार को पद से हटाया जाय। हालांकि स्थिति जस की तस बनी हुई है।

ताज्जुब इस बात का है कि यहां लेफ्ट फ्रंट में है और कांग्रेस नेता उदित राज पीछे यहां खड़े दिखे। उदित राज खुद को दलितों का नेता बताते हैं लेकिन एक स्टिंग ऑपरेशन में फंस चुके हैं।

गुरुवार को प्रधानमंत्री ने 30 से ज्यादा प्रमुख अर्थशास्त्रियों व कारोबारी नेताओं से दो घंटे तक मुलाकात की और अर्थव्यवस्था को लेकर सलाह-मशविरा किया। इस बैठक में वरिष्ठ कैबिनेट मंत्रियों अमित शाह, नितिन गडकरी, पीयूष गोयल, नीति आयोग के उपाध्यक्ष व वित्त विभाग के अधिकारी शामिल थे।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने गुरुवार को मोदी सरकार के हालिया आर्थिक विकास अनुमानों पर निशाना साधते हुए कहा कि सरकार को सबसे ज्यादा ध्यान अर्थव्यवस्था पर देना चाहिए था।

आज ही JNU के छात्रों की ओर से दिल्ली में मार्च निकाला जा रहा है। ये मार्च वीसी के इस्तीफे की मांग, हिंसा करने वालों पर एक्शन की मांग के लिए किया गया।