मोहम्मद मुख्तार अहमद

अहमद अभी भी 13 साल से दूसरे के घर में रह रहे हैं। वह बताते हैं कि 1992 में उनके परिवार के साथ एक हादसा हुआ, जिसमें परिवार के 31 लोगों की जान चली गई थी। उसके बाद अहमद पागल हो गए थे।