यूनिफॉर्म सिविल कोड

सरकार के गठन के बाद जिस तरह से ताबड़तोड़ फैसले लिए गए उसने एक साल के मोदी सरकार 2.0 के कार्यकाल में नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता का ग्राफ और ऊंचा कर दिया।

फ़िरोज़ बख़्त अहमद की बात करें तो वो, एक स्तंभकार, शिक्षाविद, राजनीतिक विश्लेषक के रूप में जाने जाते हैं। अहमद के दादा स्वतंत्रता सेनानी और देश के पहले शिक्षा मंत्री मौलाना अबुल कलाम आज़ाद थे।