योगी सरकार

कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए योगी सरकार ने गृह व पुलिस विभाग को निर्देश दिया है कि प्रदेश में जो भी बिना मास्क के घूमते मिले, उससे नियमानुसार जुर्माना लिया जाए। साथ ही 5-5 रुपये में सरकार मास्क भी मुहैया करवा रही है।

जानकारी के मुताबिक, हर इकाई से सरकार स्क्लिड और नान स्किल्ड मैनपावर की डिमांड मांग रही है। इसके साथ ही उद्योगों को हर तरह की मदद देने में सीएम योगी जुटे हैं।

योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि उत्तर प्रदेश वापस आने के इच्छुक प्रवासी श्रमिकों के बारे में पता लगाने के लिए सभी राज्य सरकारों को पत्र भेजा जाना चाहिए।

श्रमिक कल्याण आयोग के गठन की तैयारी में योगी सरकार जुट चुकी है। जिसके तहत सरकार ने श्रमिकों की मदद के लिए सस्ती दुकानें और आशियाने मुहैया कराए हैं। इसके अलावा सरकार जीएसटी, नक्शे में छूट और सभी बुनियादी सुविधाएं योगी सरकार देगी।

आदेश में यह भी कहा गया है कि सरकारी दफ्तरों में कार्यावधि के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग के साथ ही साथ अन्य सुरक्षात्मक उपायों का पूरा ध्यान रखा जाए।

लॉकडाउन के चलते कोटा राजस्थान में करीब 12,000 छात्र लाकडाउन में फंसे थे, जिन्हें सकुशल घर पहुंचाने के लिए योगी सरकार ने मुफ्त बसें चलाई थी

इसके अलावा सीएम योगी आदित्यनाथ ने वैश्विक महामारी कोरोना के संकट के समय में देश की ग्रामीण अर्थव्यवस्था की रीढ़ बनने वाले महिला स्वयं सहायता समूहों को आज रिवॉल्विंग फंड के साथ ही कम्युनिटी इंवेस्टमेंट फंड से 218 करोड़ 49 लाख की सहायता प्रदान की।

सरकार की ओर से इन महिलाओं को मास्क बनाने समेत सिलाई, कढाई, पत्तल, मसाले जैसे उत्पादों के निर्माण में मदद की जा रही है। योगी सरकार का मकसद इन महिलाओं को स्वावलंबी बनाने से है।

प्रियंका गांधी के निजी सचिव संदीप सिंह और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष लल्लू के खिलाफ बसों की जानकारी गलत देने के आरोप में और यूपी की जनता को भ्रमित करने के आरोप में लखनऊ के हजरतगंज थाने में उत्तर प्रदेश पुलिस ने FIR दर्ज किया है।

इंडियन रेलवे ने लोगों को उनकी जगह पर पहुंचाने के लिए श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाई हैं। रेलवे के मुताबिक 1 मई से लेकर अब तक 1,414 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाई गई हैं।