राजस्थान सरकार

बता दें कि स्पीकर सीपी जोशी का कल जन्मदिन था। इस मौके पर वैभव गहलोत ने उनसे मिलने पहुंचे थे। इस दौरान दोनों के बीच राजस्थान सरकार को लेकर बातचीत हुई।

राहुल गांधी अक्सर ट्वीट के जरिए मोदी सरकार पर निशाना साधते आ रहे हैं। अपने ट्वीट में वो वीडियो भी अपलोड कर रहे हैं, जिसमें मोदी सरकार व भाजपा की नीतियों पर बात कर दिखाई पड़ते हैं।

गहलोत राज्यपाल पर दबाव बनाने के लिए राजभवन पहुंच गए। यहां पर उन्होंने नारेबाजी और धरने पर बैठ गए। भूख लगी तो बिस्किट का आनंद लिया, लेकिन वहां से हटे नहीं।

राजस्थान में सियासी संग्राम फिर थमते दिखाई नहीं दे रहा है। विधानसभा सत्र के लिए राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और कांग्रेस विधायकों ने राजस्थान में राजभवन में धरना दिया था। जिसके बाद अब राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र का बयान सामने आया है।

बता दें, जो ऑडियो टेप वायरल हुआ है वह विधायकों की खरीद-फरोख्त से जुड़ा है। इसे देखते हुए गहलोत सरकार ने केस दर्ज कराया है। सरकार का कहना है कि विरोधी उनकी सरकार को गिराने के लिए डील कर रहे थे।

मुख्यमंत्री गहलोत के इस ट्वीट को सचिन पायलट को मनाने की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है। गहलोत ने एक दिन पहले पायलट पर सीधा हमला करते हुए सरकार गिराने की साजिश रचने का आरोप लगाया था।

उन्होंने आगे कहा राहुल गांधी तेजस्वी व युवाओं को बर्दाश्त नहीं कर पाते। उनकी बेज्जती करते है, इस स्थिति में उनके पास टकराव के अलावा कोई रास्ता नहीं बचता। सचिन पायलट स्वाभिमानी है। उनके परिवार को करीब से जानती हूं। वह राजेश पायलट का बेटा है। जब तक राहुल गांधी के खानदान के लोग कांग्रेस में रहेंगे तब तक यह पालात लोक में चली जाएगी।

संजय झा इससे पहले भी पार्टी आलाकमान को कटघरे में खड़ा कर चुके हैं। संजय झा ने पिछले दिनों एक लेख के माध्यम से पार्टी की कार्यशैली पर सवाल खड़े किए थे।

सूत्रों के अनुसार, पायलट खेमे के सदस्य माने जाने वाले विधायक पी. आर. मीणा ने राजस्थान में अशोक गहलोत सरकार द्वारा उनसे किए जाने वाले सौतेले व्यवहार से सोनिया गांधी को अवगत कराने के लिए उनसे मिलने की मांग की थी।

फिलहाल राजस्थान में सरकार पर चल रहे संकट को देखते हुए एक बार फिर से राजस्थान की सीमाओं को सरकार ने सील कर दिया है। इसके लिए आदेश राज्य सरकार के गृह विभाग ने जारी किए हैं।