राज्यसभा उपचुनाव

बता दें कि चुनाव आयोग(Election Commission) उत्तर प्रदेश से उपचुनाव के लिए पहले ही अधिसूचना जारी कर चुका है और विधानसभा में बहुमत वाली भाजपा(BJP) की जीत लगभग तय है।

इस सीट पर भाजपा और समाजवादी पार्टी के बीच कड़ी टक्कर हुई थी। अब भाजपा इस सीट पर मिली शिकस्त का हिसाब बराबर राज्यसभा के लिए होने वाले उपचुनाव में करेगी और यूपी विधानसभा में मजबूत संख्या बल के आधार पर पार्टी आसानी से सपा को हरा देगी।

लखनऊ कैंट और जलालपुर इन दोनों ही सीटों पर 13-13 प्रत्याशी मुकाबले में हैं। लोकसभा चुनाव के नतीजों के बाद ही यूपी की 11 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होना तय हो गया था।

भाजपा ने इन दोनों सीटों पर अपने उम्मीदवारों के नाम के बारे में ऐलान कर दिया है। भाजपा ने अपने राष्ट्रीय प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी को उत्तर प्रदेश से उम्मीदवार बनाया है। इसके साथ ही बिहार से सतीष दूबे को टिकट मिली है।

भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली और देश के प्रख्यात वकीलों में से एक रहे राम जेठमलानी के निधन के बाद उत्तर प्रदेश औऱ बिहार में खाली हुई राज्यसभा की दो सीटों पर उपचुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया गया है।