राफेल

मल्लिकार्जुन खड़गे ने सवाल खड़े किए थे और इसे तमाशा बताया था। अब कांग्रेस नेता संजय निरूपम ने खड़गे को करारा जवाब दिया है और कहा है कि, ये कोई तमाशा नहीं बल्कि हमारी परंपरा है।

गृहमंत्री ने कहा कि, अभी-अभी चुनाव शुरू हुआ है और हमारे विरोधियों को मालूम ही नहीं पड़ रहा कि चुनाव की शुरुआत पूरब से करें, पश्चिम से करें, उत्तर से करें या दक्षिण से करें उनके पास कोई दिशा नहीं है।

भारत ने फ्रांसीसी विमानन प्रमुख डसॉल्ट से 36 राफेल लड़ाकू विमानों की खरीद के लिए फ्रांस के साथ एक इंटर-गवर्नमेंटल एग्रीमेंट (आईजीए) पर हस्ताक्षर किया है।

राफेल लड़ाकू विमान की पहली खेप लेने के लिए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और वायुसेना के चीफ बीएस धनोआ फ्रांस जाएंगे। फ्रांस की कंपनी दसॉ एविएशन पहला राफेल जेट 20 सितंबर को भारत को सौंपेंगी।

राफेल विमान भारतीय वायुसेना के भविष्य का गौरव साबित होने जा रहे हैं। ये विमान पाकिस्तान के होश उड़ा देंगे। ये किसी नेता या ब्यूरोक्रेट का बयान नही है बल्कि एयरफोर्स के एयर वाइस मार्शल का एलान है।

लोकसभा चुनाव में राफेल डील का मामला सबसे ज्यादा हावी रहा। खासकर राहुल गांधी इस डील पर सरकार को घेरते हुए चौकीदार चोर है का जुमला गढ़ा, जिसे वो अबतक भुनाते आ रहे हैं। इसी बीच एक बड़ी खबर फ्रांस से आ रही है, जहां कुछ अज्ञात तत्वों की ओर से भारतीय राफेल प्रोजेक्ट मैनेजमेंट टीम में घुसपैठ की कोशिश की गई।

मोदी सरकार ने राफेल मामले में सुप्रीम कोर्ट में नया हलफनामा दाखिल किया है। जिसमें कहा गया है कि सुरक्षा संबंधी गोपनीय दस्तावेजों के सार्वजनिक खुलासे से देश की संप्रभुता और अस्तित्व पर खतरा है। सुप्रीम कोर्ट के राफेल सौदे के गोपनीय दस्तावजों से परीक्षण से रक्षाबलों की तैनाती, परमाणु प्रतिष्ठानों, आतंकवाद निरोधक उपायों आदि से संबंधित गुप्त सूचनाओं का खुलासा होने की आशंका बढ़ गई है।

राफेल मामले में कांग्रेस द्वारा केंद्र सरकार पर आरोप लगाने के बाद अब भाजपा ने पलटवार किया है। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने प्रेसवार्ता कर कहा कि राहुल गांधी ने कोर्ट की अवमानना की है। रक्षामंत्री ने आगे कहा कि बिना सबूत के आरोप लगाना राहुल गांधी की आदत है।

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने शनिवार को अपने ब्लॉग में विस्तार से विपक्ष के सारे दावों की पोल खोली। शुरुआत में उन्होंने लिखा कि भारत के लोकतंत्र की सबसे बड़ी ताकत हैं इसके वोटर्स को निहित ज्ञान होना, उन्हें पता है कि उनके लिए क्या अच्छा है, वो सोच समझकर सही फैसला लेते हैं। उन्हें पता है कि जिसने काम नहीं किया उसे वोट नहीं देना है, और जो कर रहा है उसे ही वोट देना है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इंडिया टुडे कॉन्क्लेव के 18वें संस्करण के आज दूसरे दिन संबोधन देने के लिए पहुंचे। वहां पहुंचकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुलकर अपनी बातें रखी। नरेंद्र मोदी ने यहां मंच से उन लोगों पर निशाना साधा जिन्होंने पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान में आतंकी ठिकानों पर किए गए हमले को लेकर सवाल पूछने वाले को लेकर कहा कि देश के कुछ ही लोगों को हमारी कार्रवाई पर शक है।