राफेल विमान

Rafale Jet : फ्रांस (France) ने भारत (India) को राफेल लड़ाकू विमानों (Rafale Jet) के अगले बैच को सौंप दिया है। इस बैच में शामिल पांचों विमान अभी फ्रांस की धरती पर ही मौजूद हैं।

भारत के खेमे में राफेल लड़ाकू विमान आते ही पाकिस्‍तान की बेचैनी बढ़ गई है। पाकिस्‍तान के विदेश मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि भारत अपनी रक्षा जरूरतों से कहीं ज्‍यादा हथियार जुटाने में लगा हुआ है।

वहीं राफेल लड़ाकू विमान के भारत आगमन पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर को याद किया। स्मृति ईरानी ने लिखा है कि आज भाई को याद कर रही हूं।

राफेल विमान को वायुसेना की गोल्डन ऐरो 17 स्क्वाड्रन में शामिल किया जाएगा। इसने कारगिल युद्ध में अहम भूमिका निभाई थी और भारत की सबसे पुरानी स्क्वाड्रन में से एक है।

सूत्रों के अनुसार फ्रांस से 5 राफेल विमान 29 जुलाई को भारत पहुंचने वाले हैं। इसमें से 2 सिंगल सीटर और 3 ट्विन सीटर विमान होंगे। ये विमान 29 जुलाई को अंबाला एयरबेस पर लैंड करेंगे।

भारत को फ्रांस अगले महीने 6 राफेल विमान देनेवाला है। चीन से एलएसी पर तनाव के बीच भारतीय वायुसेना को राफेल लड़ाकू विमान की पहली खेप 27 जुलाई को मिलने जा रही है।

दुश्मनों को डराने वाली एक खुशखबरी भारत के लिए आई है। फ्रांस से इस साल जुलाई महीने के आखिर तक पहले चार राफेल लड़ाकू विमान भारत आ जाएंगे।

भारत को अभी तक तीन राफेल विमान फ्रांस की तरफ से मिल चुके हैं। ये खबर पाकिस्तान के होश उड़ा देगी।  रक्षा मंत्रालय के मुताबिक अब तक तीन राफेल विमान भारत को हैंड ओवर किए जा चुके हैं।

इससे पहले राहुल गांधी फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मेक्रां के साथ बातचीत की झूठी कहानी भी गढ़ चुके थे। राहुल गांधी ने कहा था कि मोदी सरकार गोपनीयता की आड़ लेकर राफेल विमान सौदे की कीमत नहीं बता रही है

भारत के मीडियम मल्टी रोल कॉम्बैट एयरक्राफ्ट के सौदे के लिए दसॉ ने अपने राफेल जेट का 28 अगस्त, 2007 को दावा किया था। उस समय दसॉ ने भारत में निजी पार्टनरशिप के लिए टाटा ग्रुप के साथ बातचीत शुरू की थी।