रामलला

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने कहा है कि अयोध्या (Ayodhya) को सोलर सिटी (Solar City) के रूप में विकसित किए जाने की आवश्यकता है।

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार अयोध्या (Ayodhya) के कायाकल्प पर 2000 करोड़ से अधिक की राशि खर्च कर रही है।

पीएम मोदी ने अयोध्या में सबसे पहले हनुमानगढ़ी पहुंचकर पूजा अर्चना की। इस दौरान सीएम योगी भी उनके साथ मौजूद रहे। यहां संतों ने पीएम मोदी को एक पगड़ी और साफा पहनाया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इससे पूर्व 28 साल पहले 1992 में पहली बार अयोध्या पहुंचे थे। तब वह भाजपा के तत्कालीन अध्यक्ष डॉ. मुरली मनोहर जोशी के नेतृत्व में निकली तिरंगा यात्रा में उनके सहयोगी के तौर पर अयोध्या पहुंचे थे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन करेंगे। भूमि पूजन से पहले भगवान रामलला को रत्न जड़ित हरे रंग के वस्त्र पहनाकर तैयार किया गया है।

अयोध्या के प्रमुख मार्ग पर भवनों को रंगा जाने लगा है। भक्ति संगीत और रामधुन गुंजायमान होने लगी है। शासन प्रशासन की तैयारियां इस तरह की है कि पीएम नरेंद्र मोदी नगर में प्रवेश करें तो उन्हें पीले कलर में सभी भवन नजर आए। 

अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण की शुरुआत होने जा रही है। इस बीच रामलला को मुस्लिम महिलाएं राखी भेजेंगी। राम नाम से सजी राखियों को मेरठ की शाहीन परवेज, रेशमा, नीलम और शबनम फरहीन फरजाना ने मिलकर बनाई है।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार को अयोध्या पहुंचे। यहां उन्होंने रामलला और हनुमानगढ़ी के दर्शन किए। दर्शन के बाद सीएम ने 5 अगस्त को होने वाले भूमि पूजन की तैयारियों का जायजा लिया। सीएम मंदिर निर्माण स्थल का और भूमि पूजन स्थल का निरीक्षण किया।

रामलला के ऑनलाइन दर्शन की हर तरफ से मांग उठ रही है। ट्रस्ट तक भी यह बातें पहुंच रही हैं। इसे लेकर मंथन हो रहा है। लेकिन अभी इसे लेकर संशय है। ट्रस्ट का मानना है कि उसके पास जो भी पैसा है वह मंदिर निर्माण के लिए है।

रामलला का नया सिंहासन साढ़े नौ किलो चांदी से बनवाकर अयोध्या राज परिवार के मुखिया विमलेन्द्र मोहन प्रताप मिश्र ने रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट को समर्पित कर दिया है।