राम जन्मभूमि

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने कहा है कि अयोध्या (Ayodhya) को सोलर सिटी (Solar City) के रूप में विकसित किए जाने की आवश्यकता है।

अमेरिका की राजधानी न्यूयॉर्क के टाइम्स स्क्वायर भी आज राममय दिखा। यहां राम मंदिर की तस्वीर का डिजिटल बोर्ड के जरिए प्रदर्शन किया गया।

अदालत में राम मंदिर के लिए 50 साल तक मुकदमा लड़ने वाले स्वामी रामचंद्र दास परमहंस की जैसे अंतिम इच्छा पूरी हो रही है।

भूमि पूजन को लेकर साध्वी ऋतंभरा ने कहा, करीब 500 साल के संघर्ष के बाद स्वाभिमान की जो पुन: प्रतिष्ठा हुई है उसका आनंद अपार है।

पहले राम मंदिर के मॉडल में दो गुंबद और शिखर बने थे। अब इसमें गुंबदों की संख्या पांच कर दी गई है। शिखर की ऊंचाई 161 फीट की गई है।

श्री राम जन्मभूमि पर हाल में जारी हुई एक किताब में वर्ष 1949 में हुई घटनाओं को राम मंदिर केस का टर्निंग पॉइंट बताया गया है।

उन्होंने कहा, "सेकुलरिज्म के नाम पर कोई देश अपनी राष्ट्रीयता से समझौता नहीं कर सकता। जिस देश को अपनी सांस्कृतिक जड़ों, राष्ट्रीयता की पहचान का बोध नहीं होता, वह राष्ट्र राष्ट्र नहीं सिर्फ जमीन का टुकड़ा रह जाता है।"

बता दें कि 5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राम मंदिर का भूमि पूजन और शिलान्यास करने अयोध्या आ रहे हैं। इस दौरान उनके साथ यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, लाल कृष्ण आडवाणी, संघ प्रमुख मोहन भागवन जैसी प्रमुख हस्तियां साथ रहेंगी।

भगवान राम और अयोध्या पर नेपाल के प्रधानमंत्री ओपी शर्मा ओली के बयान को लेकर विदेश मंत्री प्रदीप ज्ञवाली बचाव की मुद्रा में आ गए हैं।

अयोध्या में राम मंदिर के भूमिपूजन का कार्यक्रम फिलहाल टल गया है। भूमिपूजन टालने का यह फैसला भारत-चीन सीमा पर तनाव के चलते श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने लिया है।