राम मंदिर

Sri Ram Janmabhoomi Teerth Kshetra Trust : एक ओर जहां उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के अयोध्या (Ayodhya) में राम मंदिर (Ram Temple) निर्माण की नींव तेजी से रखी जा रही है, वहीं दूसरी तरफ मंदिर निर्माण में आर्थिक सहयोग को लेकर दानदाताओं के दान देने का सिलसिला भी लगातार जारी है।

Ram Mandir Ayodhya: श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट (Shri Ram Janambhumi Teerth Kshetra Trust) के सदस्य अनिल मिश्रा (Anil Mishra) ने राम मंदिर (Ram Mandir) निर्माण को लेकर बड़ी जानकारी दी है।

PM Narendra Modi 70th Birthday: नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने वह कर दिखाया जो न तो उनसे पहले कोई कर पाया और ना उनके बाद कोई कर पाएगा, इसके बारे में कोई भी भविष्यवाणी (Prediction) नहीं कर सकता है।

कोविड-19(Covid-19) के चलते सीमित संख्या में अतिथियों को लंदन(London) में इंडिया हाउस(India House) में आयोजित एक समारोह में बुलाया गया। समारोह में लंदन स्थित श्री मुरुगन मंदिर के पुजारियों ने मूर्तियों की संक्षिप्त पूजा अर्चना की और इसके बाद उन्हें भारत को सौंप दिया गया।

गुरुवार को भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (BJP President JP Nadda) ने पश्चिम बंगाल (West Bengal) की ममता बनर्जी सरकार (Mamata Banerjee Govt) पर जोरदार निशाना साधा।

अयोध्या (Ayodhya) में श्रीराम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट (Shri Ram Janmabhoomi Teerth Kshetra Trust) के बैंक खाते से 6 लाख रुपये गलत तरीके से निकाले जाने का मामला सामने आया है।

अयोध्या विकास प्राधिकरण (Ayodhya Development Authority) ने राम मंदिर (Ram Mandir) निर्माण  के लिए नक्शे को बुधवार को हुई बैठक में सर्वसम्मति से पास कर दिया।

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने मोदी सरकार की तारीफ करते हुए विपक्ष पर निशाना साधा है। गोरखपुर (Gorakhpur) के गोरक्षनाथ मंदिर (Gorakshnath Temple) में आयोजित सेमिनार में उन्होंने ये बात कही।

बता दें कि नींव खोदाई के लिए रिग नाम की मशीन बाहर से लाई जा रही है, जिससे 40 से 60 मीटर नीचे तक नींव खोदी जाएगी। इसके लिए विशेषज्ञों का दल अयोध्या(Ayodhya) पहुंच चुका है।

माना जा रहा है कि इन सब का ध्यान रखते हुए ही अब विशेष स्मारक स्थल बनाने की योजना पर काम किया जा रहा है। इस स्मारक स्थल में गुरू नानक देव(Guru Nanak Dev), गुरू तेग बहादुर, गुरू गोविंद सिंह, वीएचपी के अंततराष्ट्रीय संरक्षक रहे अशोक सिंघल(Ashok Singhal), गोरक्षपीठ के पूर्व पीठाधीश्वर महंत दिग्विजय नाथ, महंत अवैद्यनाथ समेत तमाम महापुरुषों की प्रतिमाएं और तस्वीरें लगाई जा सकती हैं।