राम मंदिर

राम मंदिर आंदोलन से जुड़े रहे राम विलास वेदांती का कहना है कि, दिव्य राम मंदिर निर्माण की लोगों की इच्छा अवश्य पूरी होगी क्योंकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह दोनों अयोध्या में गगनचुंबी राम मंदिर निर्माण की बात कहते रहे हैं।

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की वेबसाइट शुरू हो गई है। वेबसाइट में राम मंदिर के निर्माण से जुड़े अपडेट लिए जा सकते है। आज से फेसबुक और ट्विटर अकाउंट पर भी ये जानकारियां मिलेंगी।

राम मंदिर निर्माण की आधिकारिक जानकारी देने के लिए श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट जल्दी ही अपनी आधिकारिक वेबसाइट लॉन्‍च करेगा। जिसके लिए फेसबुक और ट्विटर अकाउंट पर काम चल रहा है। इन सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के जरिए राममंदिर निर्माण की गतिविधियों की आधिकारिक जानकारी दी जाएगी।

श्री राम जन्मभूमि परिसर के समतलीकरण के बाद यहां पर राम मंदिर का निर्माण शुरू हो इससे पहले बुधवार को श्री रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास के उत्तराधिकारी महंत कमल नयन दास ने भगवान शशांक शेखर का अभिषेक किया। रुद्राभिषेक के समय महंत कमलनयन दास के साथ संत सभा अध्यक्ष कन्हैया दास, आचार्य आनंद शास्त्री भी मौजूद रहे। पिछले 28 साल से रामजन्म भूमि के अधिग्रहण होने के बाद से ही यहां कुबेरेश्वर महादेव की पूजा नहीं हुई थी।

श्री रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास के उत्तराधिकारी महंत कमल नयन दास ने भगवान शशांक शेखर का अभिषेक किया।

आपको बता दें 2 जुलाई के दिन हिन्दू पंचांग के हिसाब से देव शयनी एकादशी है, यानी इसके बाद देव शयन में चले जाते हैं और 4 महीने बाद यानि कि कार्तिक महीने में देव उत्थान एकादशी को देव जागते हैं। इन चार महीनों में हिंदुओं में कोई नया या शुभ कार्य नहीं किया जाता है।

राम जन्मभूमि परिसर के कुबेर टीला पर विराजमान शशांक शेखर के मंदिर में 10 जून से अनुष्ठान शुरू होगा और इसी के बाद राम मंदिर के ढांचे पर काम शुरू होगा।

इस दौरान मीडिया से बातचीत करते हुए भैयाजी जोशी ने कहा कि राम मंदिर का निर्माण कार्य शुरू हो चुका है। भैयाजी ने कहा कि राम मंदिर दिव्य, भव्य एवं मजबूत बनेगा। ये लाखों भक्तों के लिए आकर्षण का केंद्र भी रहेगा। उन्होंने कहा, "अयोध्या दर्शन योग्य है और हमेशा दर्शन योग्य रहेगी।"

बाबरी मस्जिद के पक्षकार रहे मोहम्मद इकबाल अंसारी ने सरकार से सीबीआई की विशेष अदालत में चल रहे बाबरी मस्जिद विध्वंस केस को खत्म करने की मांग की है। 

सरकार के गठन के बाद जिस तरह से ताबड़तोड़ फैसले लिए गए उसने एक साल के मोदी सरकार 2.0 के कार्यकाल में नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता का ग्राफ और ऊंचा कर दिया।