राम मंदिर निर्माण

Ram Temple: चंपत रा(Champay Rai) ने कहा कि, नींव के ऊपर से लेकर पूरे मंदिर में करीब चार लाख घन मीटर पत्थर का इस्तेमाल होगा। उन्‍होंने उम्मीद जताई कि, संभव है कि, जून में मंदिर(Ram Temple) का निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा।

Ram Mandir: चंपत राय(Champat Rai) ने कहा कि, दूसरी महत्वपूर्ण बात- मंदिर का प्रारूप (ड्रॉइंग) अब बड़ा किया गया है। राममंदिर(Ram Mandir) अब 360 फीट लंबा बनेगा, 235 फीट चौड़ा बनेगा।

Ayodhya Ram Mandir: VHP की तरफ से बताया गया है कि, इस अभियान के तहत पीएम(PM), राष्ट्रपति(President) और उपराष्ट्रपति से भी चंदा लिया जाएगा। सरकार से पैसा नहीं लिया जाएगा। सरकार से सहयोग की अपेक्षा है।

Ayodhya: बता दें कि स्वीकार करने, अपनाने या अस्वीकार करने के कदम को ट्रस्ट(Ram Mandir Trust) ने अपने पास रखा है। कोई भी व्यक्ति, विशेषज्ञ, आर्किटेक्ट या डिजाइनर 25 नवंबर 2020 तक ईमेल द्वारा उसी के संबंध में अपने सुझाव प्रस्तुत कर सकता है।

Ram Mandir Ayodhya: श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट (Shri Ram Janambhumi Teerth Kshetra Trust) के सदस्य अनिल मिश्रा (Anil Mishra) ने राम मंदिर (Ram Mandir) निर्माण को लेकर बड़ी जानकारी दी है।

Mathura Krishna Janmbhoomi: अयोध्या(Ayodhya) मामले में सुप्रीम कोर्ट से राम मंदिर(Ram Mandir) निर्माण को लेकर फैसला आने के बाद से ही एक पक्ष अब काशी और मथुरा के मामले में भी लगातार लामबंदी कर रहा है।

Ram Janmbhumi Teerth Kshetra Trust: अयोध्या(Ayodhya) में 5 अगस्त को पीएम मोदी(PM Modi) द्वारा भूमिपूजन(Bhumi Poojan) होने के बाद से मंदिर निर्माण का कार्य तेजी के साथ चल रहा है। ऐसे में इस निर्माण के लिए दान देने का सिलसिला भी तेजी से जारी है।

अयोध्या(Ayodhya) में मंदिर निर्माण(Ram Mandir) का कार्य आगे बढ़ रहा है। शुक्रवार को परीक्षण के लिए भूमि के नीचे सौ फुट गहराई तक का पहला स्तम्भ तैयार हो चुका है।

रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट (Ramjanmabhoomi Tirtha Kshetra Trust) की मंदिर (Ram Mandir) निर्माण समिति की बैठक एक दिन पहले हो चुकी है। इस बैठक में पत्थरों के मध्य जोड़ में दस-दस हजार तांबे की राड के अलावा ताम्र पत्र लगाने के निर्णय के बाद श्रद्धालुओं में ताम्र पत्र व राड को दान (Donation) करने की होड़ मच गयी है।

पीएम मोदी(PM Modi) 5 अगस्त को राम मंदिर निर्माण(Ram Mandir Nirman) के लिए भूमि पूजन कार्यक्रम में शामिल हुए थे। उन्होंने राम मंदिर की आधारशिला रखी थी। इस दौरान यूपी सीएम योगी(CM Yogi) आदित्यनाथ ने कहा था कि 5 शताब्दी के बाद संकल्प पूरा हो गया।  प्रधानमंत्री जी ने लोकतांत्रिक तरीके से इसका समाधान निकाला।